Rescue from incurable disease

Rescue from incurable disease
लाइलाज बीमारी से मुक्ति उपाय है - आयुर्वेद और पंचकर्म चिकित्सा |

तनाव-नीद-और मधुमेह(डायबिटीज)


तनाव-नीद-और मधुमेह(डायबिटीज) 

तनाव से नीद या नीद से तनाव होगा तो होगी
 "डायबिटीज" 
वेसे ही जेसे चाकू खरबूजे  पर पड़े या खरबूजा चाकू पर कटना खरबूजे को ही होता हे ।
नोकरी हो या व्यवसाय,सभी में  काम का बोझ, जबाबदेही या जिम्मेदारी का दबाब लगातार  बना रहता हे। इस पर "अधिकारी" का दबाब या व्यापारी को घाटा-या क़ानूनी मामले/ या  प्रतिद्वंदिता। कुछ भी हो मानसिक तनाव बढ जाता हे इससे नींद भी प्रभावित होती हे, और यह  डायबिटीज की और ले जाता हे ।   

अब दुसरे पहलू  से सोचें,
 किसी भी कारण से डायबिटीज हो गई हे, इस 

डायबिटीज के प्रभाव शरीर पर बहुत ही नकारात्‍मक पड़ता हैं यह शरीर को आंतरिक और बाहरी तौर पर बहुत नुकसान पहुंचाता है। 


इसके कारण डायबिटीज के मरीजों को रात को सोने में भी तकलीफ होने लगती है। पर क्या डायबिटीज आपकी नींद को प्रभावित करता है। यह वाकई जानने के लिए एक दिलचस्प मुद्दा है कि कैसे डायबिटीज हमारी नींद को प्रभावित करती है। 
समझना होगा कि डायबिटीज मरीजों की नींद भी डायबिटीज से प्रभावित होती है।


यह तो सभी जानते ही हैं डायबिटीज का मरीजों पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है और ऐसे में नींद पर भी प्रभाव पड़ना स्वाभाविक है। 
आयुर्वेद के स्वास्थ्य नियमों के अनुसार, सबको कम से कम छह घंटे सोना चाहिए, और बच्चों को कम से कम आठ घंटे सोने की सलाह दी जाती है, लेकिन यदि आप हर दिन किन्हीं कारणों से अपनी नींद पूरी नहीं कर पाते या फिर आप छह घंटे से कम सो रहे हैं तो इसका एक कारण हो सकता है कि आप डायबिटीज की चपेट में आ गए हैं। दुसरे शब्दों में आपको डायबिटीज हो गई हे या होने जा रही हे।


शोधों में भी साबित हो चुकी है कि जो लोग प्रतिदिन छह सात घंटे से कम  नींद लेते हैं उनके टाइप टू डायबिटीज की चपेट में आने की संभावना अधिक हो जाती है। 

जो लोग नींद पूरी नहीं कर प़ा रहे हें, या फिर जिन लोगों को रात में बार-बार उठना पड़ता है या नींद खुल जाती(तनाव आदि से) है, इसका अर्थ है कि उनकी डायबिटीज बढ़ रही है। 
 जिन लोगों को डायबिटीज होती है उन्हें बहुत बार पेशाब के लिए जाना पड़ता है और यही समस्या रात को भी रहती है, ऐसे में नींद का बार-बार टूटना या नींद का पूरी ना हो पाना डायबिटीज का कारण हो जाता हे । 


कई लोगों को बढ़ते शुगर लेवल के कारण नींद नहीं आती या फिर उनके शरीर के कुछ हिस्सों जैसे कमर में, सिर में इत्यादि जगहों पर दर्द होने लगता है जिससे डायबिटीज मरीज सारी रात करवटें बदलते रहते हैं। 

बढ़ते डायबिटीज के कारण मरीज को सारा दिन थकान रहने लगती है जिससे उसे दिन में बहुत नींद आती है और दिन में अधिक सोने के कारण रात की नींद भी ठीक से पूरी नहीं हो पाती। 
शोधों में भी साबित हुआ है कि जो लोग बहुत ज्यादा या जो लोग बहुत कम सोते हैं उनके हार्मोंस में असंतुलन पैदा हो जाता है, जिससे उनके मेटाबॉजिल्म पर भी बुरा असर पड़ता है, जिसके कारण नींद भी सही तरीके से पूरी नहीं हो पाती।

दिलचस्प बात यह भी हे की डायबिटीज के कारण भूख भी बहुत लगने  लगती है जिससे आपको खाना खाने के कुछ ही देर बाद फिर से भूख लगने लगती है, जबकि कई डायबिटीज मरीजों को रात को खाना खाने के बाद भी देर रात को भूख लग जाती है जिससे उनकी नींद में भी खलल पड़ता है। 

शोधों में ये भी साबित हुआ है कि जो लोग छह घंटे की नींद नहीं लेते उनको भी डायबिटीज की संभावना बढ़ जाती है यानी उन्हें ग्लूकोज़ फास्टिंग को प्रभावित करने वाली बाधाओं के उत्पन्न होने का डर रहता है।
कहने का अर्थ यह हे की तनाव से नीद या नीद से तनाव होगा तो होगी
 "डायबिटीज" 
वेसे ही जेसे चाकू खरबूजे  पर पड़े या खरबूजा चाकू पर कटना खरबूजे को ही होता हे ।
याने सीधा सा मतलब हे नीद या तनाव कुछ भी पाहिले हो  डायबिटीज को निमत्रण मिल ही जाता हे।
अतः सावधान!
यदि आपको डायबिटीज है और आपको ठीक तरीके से नींद नहीं आती है। या तनाव हे और नीद की कमी हो रही हे, तो आपको चाहिए कि आप अपनी इस समस्या को दूर करने के लिए प्रतिदिन एक्सरसाइज करें प्रतिदिन पैदल चलें, और साथ ही सबसे लाभदायक बात "ध्यान"मानसिक जप" और 'योग"का सहारा भी लें यह तनावों को दूर करेगा।साथ ही हेल्दी डायट को भी अपनाये । इसके साथ ही पानी और तरल पदार्थों को अधिक मात्रा में लें। एसा करने से आप  डायबिटीज से पूर्ण मुक्ति प़ा जायेंगे या उसको नियंत्रण में रख सकेंगे । 
+++++++++++++++++++++++++++++++++++++
=============================================




समस्त चिकित्सकीय सलाह रोग निदान एवं चिकित्सा की जानकारी ज्ञान(शिक्षण) उद्देश्य से हे| प्राधिकृत चिकित्सक से संपर्क के बाद ही प्रयोग में लें|

Book a Appointment.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

स्वास्थ /रोग विषयक प्रश्न यहाँ दर्ज कर सकते हें|

स्वास्थ है हमारा अधिकार

हमारा लक्ष्य सामान्य जन से लेकर प्रत्येक विशिष्ट जन को समग्र स्वस्थ्य का लाभ पहुँचाना है| पंचकर्म सहित आयुर्वेद चिकित्सा, स्वास्थय हेतु लाभकारी लेख, इच्छित को स्वास्थ्य प्रशिक्षण, और स्वास्थ्य विषयक जन जागरण करना है| आयुर्वेदिक चिकित्सा – यह आयुर्वेद विज्ञानं के रूप में विश्व की पुरातन चिकित्सा पद्ध्ति है, जो ‘समग्र शरीर’ (अर्थात शरीर, मन और आत्मा) को स्वस्थ्य करती है|

चिकित्सक सहयोगी बने:
- हमारे यहाँ देश भर से रोगी चिकित्सा परामर्श हेतु आते हैं,या परामर्श करते हें, सभी का उज्जैन आना अक्सर धन, समय आदि कारणों से संभव नहीं हो पाता, एसी स्थिति में आप हमारे सहयोगी बन सकते हें| यदि आप पंजीकृत आयुर्वेद स्नातक (न्यूनतम) हें! आप पंचकर्म केंद्र अथवा पंचकर्म और आयुर्वेदिक चिकित्सा प्रक्रियाओं जैसे अर्श- क्षार सूत्र, रक्त मोक्षण, अग्निकर्म, वमन, विरेचन, बस्ती, या शिरोधारा जैसे विशिष्ट स्नेहनादी माध्यम से चिकित्सा कार्य करते हें, तो आप संपर्क कर सकते हें| 9425379102/ mail- healthforalldrvyas@gmail.com केवल परामर्श चिकित्सा कार्य करने वाले चिकित्सक सम्पर्क न करें|