Rescue from incurable disease

Rescue from incurable disease
लाइलाज बीमारी से मुक्ति उपाय है - आयुर्वेद और पंचकर्म चिकित्सा |
  • Home
  • Contact Us
  • About Me
  • Q & A
  • Article's स्वास्थ्य लेख
  • Panchakarma(पंचकर्म)
  • Common Article
  • Specific article (विशेष लेख)
  • VIDEO
  • असली च्यवन प्राश क्या है?

    What is the real Chyawanprash?
    बाज़ार में मिलने वाले स्वादिष्ट च्यवनप्राश का एक लाभ जरूर है,
     इस बाहने से कुछ मात्रा में ही सही आवॅला जो की जीवनीय शक्ति 
    के लिए एक अच्छा घटक है, मिल जाएगा।

    वर्तमान में सर्वाधिक बिकने वाला शक्ति दाता टानिक च्यवन प्राश कई व्यक्ति सेवन करते हें परन्तु खाने के बाद अकसर वह लाभ नहीं दिखता जो इसके मिथक च्यवन ऋषि के पुन: युवा बना देने के बारे में प्रचलित है

    कहा जाता है की, हजारों वर्ष पूर्वच्यवन ऋषि का देव चिकित्सक युगुल अश्वनी कुमारों ने च्यवनप्राश की सहायता से कायाकल्प  कर दिया था। उसमें वर्तमान की तरह कोई सोना चाँदीया कोई अन्य उत्तेजक ओषधि नहीं थी।
          आज कल धन कमाने मात्र की होड मेंच्यवन प्राश अवलेह में कोई सोना-चाँदी की बात करता है, कोई,  कोई कुछ ओर की। ओर तो ओर डाईविटीज के रोगियों की जेब पर हाथ साफ करने के लिए अब शुगर फ्री भी मार्केट च्यवनप्राश मार्केट में है।

    कुछ लोगों ने कुछ हट कर बुडापे से लड़ने के लिए केसर युक्त जीवन केसरी जैसे नामो से जनता की जेब तक पहुँच बनाई है।
         च्यवन प्राश का यह व्यापार अरबों खरबों करोड़ रुपए तक जा पहुंचा है। 
    असली च्यवन प्राश क्या है?
     शास्त्रोक्त च्यवनप्राश अवलेह बहुत ही सामान्य सी आवंलादशमूलअष्टवर्ग की ओषधियों ओर जीवन सामर्थ्य बदने वाली कुछ जड़ी बूटियों का शहद/ घी/ मिश्री आदि का मिश्रण होता है। शास्त्रोक्त च्यवनप्राश खाने में स्वादिष्ट भी नही होता। 
    इसे स्वादिष्ट बनाने हेतु इसमें कई गुना अधिक शुगर मिला दी जाती है। इस प्रकार यह मिठाई की तरह स्वादिष्ट लगाने लगती है। 
    फिर इसमें कुछ उत्तेजक ओषधि जैसे मकरध्वजआदि योग कर दिया जाता हैजो की वास्तविक च्यवन प्राश में है ही नहीं। इस प्रकार से तात्कालिक उत्तेजना ओर बल का अनुभव कराकर जेब काटी जा रही है। जितना अधिक चमत्कारिक रूप का वर्णन किया जाता हैवास्तव में वह कितना होता हैकोई नही जानता। 
    वर्तमान में जो ओषधिया असली च्यवनप्राश में प्रतिनिधि के रूप में सम्मलित हें, वे निसंदेह जीवन शक्ति बड़ाती हेंरोग प्रतिकारक क्षमता का विकास भी करती है। 
    मिथकों में वर्णित या शास्त्रोक्त लाभ मिले कैसे
    च्यवन प्राश के चमत्कारिक लाभ पाने के लिए च्यवनप्राश सेवन मात्र से अधिक कुछ नही होगा|  व्यक्ति को खान-पान, रहन सहन, आचरण में भी परिवर्तन करना होगा। च्यवन ऋषि की तरह शरीर सिद्धि की साधना या पंचकर्म द्वारा शरीर का शोधन भी कारना होगा। 
    जब तक पंचकर्म आदि प्रक्रिया से शरीर की चपापचय प्रक्रिया (मेटाबोलोज्म), ठीक न हो तब तक कोई भी टोनिक, खाद्य, शरीर को पुष्ट नहीं कर सकता
    इसके अतिरिक्त वास्तविक असली च्यवनप्राश जो स्वादिष्ट न होकर आवले के कारण खट्टाओर ओषधियों के स्वाद वाला होता है। एसे ख़राब से स्वाद युक्त च्यवन प्राश को खाना भी अधिकांश पसंद नहीं करते, इसीलिए व्यवसायिक लाभ प्राप्त करने हेतु स्वाद पर ध्यान दिया जाना जरूरी हने के चलते व्यवसायियों को इसे भी स्वादिष्ट बनाना भी आवश्यक हुआ, अन्यथा खरीदता कोन
    इसका अर्थ यह भी नहीं की बाज़ार का च्यवन प्राश बेकार है| वह लाभ तो करेगा पर चमत्कार नहीं
    चमत्कारिक लाभ के लिए पंचकर्म द्वारा शुद्ध किये शरीर को शास्त्र वर्णित च्यवन प्राश दिया जाये तो आज भी चमत्कार देखा जा सकता है
    समस्त चिकित्सकीय सलाह रोग निदान एवं चिकित्सा की जानकारी ज्ञान(शिक्षण) उद्देश्य से हे| प्राधिकृत चिकित्सक से संपर्क के बाद ही प्रयोग में लें| आपको कोई जानकारी पसंद आती है, ऑर आप उसे अपने मित्रो को शेयर करना/ बताना चाहते है, तो आप फेस बुक/ ट्विटर/ई मेल/ जिनके आइकान नीचे बने हें को क्लिक कर शेयर कर दें। इसका प्रकाशन जन हित में किया जा रहा है।


    Book a Appointment.

    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

    स्वास्थ /रोग विषयक प्रश्न यहाँ दर्ज कर सकते हें|

    स्वास्थ है हमारा अधिकार

    हमारा लक्ष्य सामान्य जन से लेकर प्रत्येक विशिष्ट जन को समग्र स्वस्थ्य का लाभ पहुँचाना है| पंचकर्म सहित आयुर्वेद चिकित्सा, स्वास्थय हेतु लाभकारी लेख, इच्छित को स्वास्थ्य प्रशिक्षण, और स्वास्थ्य विषयक जन जागरण करना है| आयुर्वेदिक चिकित्सा – यह आयुर्वेद विज्ञानं के रूप में विश्व की पुरातन चिकित्सा पद्ध्ति है, जो ‘समग्र शरीर’ (अर्थात शरीर, मन और आत्मा) को स्वस्थ्य करती है|

    चिकित्सक सहयोगी बने:
    - हमारे यहाँ देश भर से रोगी चिकित्सा परामर्श हेतु आते हैं,या परामर्श करते हें, सभी का उज्जैन आना अक्सर धन, समय आदि कारणों से संभव नहीं हो पाता, एसी स्थिति में आप हमारे सहयोगी बन सकते हें| यदि आप पंजीकृत आयुर्वेद स्नातक (न्यूनतम) हें! आप पंचकर्म केंद्र अथवा पंचकर्म और आयुर्वेदिक चिकित्सा प्रक्रियाओं जैसे अर्श- क्षार सूत्र, रक्त मोक्षण, अग्निकर्म, वमन, विरेचन, बस्ती, या शिरोधारा जैसे विशिष्ट स्नेहनादी माध्यम से चिकित्सा कार्य करते हें, तो आप संपर्क कर सकते हें| 9425379102/ mail- healthforalldrvyas@gmail.com केवल परामर्श चिकित्सा कार्य करने वाले चिकित्सक सम्पर्क न करें|