Rescue from incurable disease

Rescue from incurable disease
लाइलाज बीमारी से मुक्ति उपाय है - आयुर्वेद और पंचकर्म चिकित्सा |
  • Home
  • Contact Us
  • About Me
  • Q & A
  • Article's स्वास्थ्य लेख
  • Panchakarma(पंचकर्म)
  • Common Article
  • Specific article (विशेष लेख)
  • VIDEO
  • एसिडिटी या अम्लपित्त

    एसिडिटी या अम्लपित्त
    जेसा की नाम से पता चलता हे एसिड या अम्ल की अधिकता के कारण पेट सीने में जलन या दाह होना ही इसका प्रमुख लक्षण हे| जब यह अधिक होने लगता हे तो पेट में छाला या अल्सर बन जाता हे| आधुनिक चिकित्सा विज्ञानं में इसको रोग का लक्षण माना जाता हे|अपथ्य आहार इसका मूल कारण हे |

    मिर्च मसाला अधिक खाना ,भूखे रहना या उपवास करना ,खाली पेट -शराब /अधिक चाय /तीखे खाद्यान्न का सेवन करना इसका प्रमुख कारण हे | सामान्य भाषा में कहा जाये तो,चाहे जब जो चाहे खाते रहना पर सामान्य भोजन नहीं करना या न कर पाना एसिडिटी या अम्लपित्त:  कर देता हे |

    प्रारंभ में यह साधारण सी लगने वाली यह बीमारी धीरे धीरे गंभीर रूप धारण कर लेती हे ,और अधिकांश रोगों या कुछ बड़ी तकलीफों ,जेसे पाईल्स,जीर्ण कब्ज अल्सर पेट की अन्य बड़े कष्टों को निमंत्रित करती हे|

    जब रोग अधिक बढ जाता हे , तब उलटी वमन जी मचलाते रहना ,कब्ज हो जाना ,भोजन के प्रति अरुचि , धीरे धीरे शारीरिक कमजोरी आ जाती हे |

    इस से बचने का यही तरीका हे की भोजन सही समय,संतुलित,होना चाहिए खाली पेट न रहे पर अन्य मिर्च मसाले वाले स्नेक्स से बचा जाये खाली पेट पर चाय,शराब आदी का सेवन न किया जाये |

    चिकित्सा - यदि रोग जलन तक सीमित हे तो एक एक चम्मच अविपत्तिकर चूर्ण (डाईविटिक रोगी न लें) लेना लाभ दायक होगा | अधिक रोग होने पर आयुर्वेदिक चिकित्सा सबसे अच्छी हे |चिकित्सक से संपर्क कर ठीक की जा सकती हे |अन्य औषधियां कब्ज करती हे इससे तात्कालिक लाभ तो हो जाता हे ठीक नहीं होता
    |

    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

    स्वास्थ /रोग विषयक प्रश्न यहाँ दर्ज कर सकते हें|

    स्वास्थ है हमारा अधिकार

    हमारा लक्ष्य सामान्य जन से लेकर प्रत्येक विशिष्ट जन को समग्र स्वस्थ्य का लाभ पहुँचाना है| पंचकर्म सहित आयुर्वेद चिकित्सा, स्वास्थय हेतु लाभकारी लेख, इच्छित को स्वास्थ्य प्रशिक्षण, और स्वास्थ्य विषयक जन जागरण करना है| आयुर्वेदिक चिकित्सा – यह आयुर्वेद विज्ञानं के रूप में विश्व की पुरातन चिकित्सा पद्ध्ति है, जो ‘समग्र शरीर’ (अर्थात शरीर, मन और आत्मा) को स्वस्थ्य करती है|

    चिकित्सक सहयोगी बने:
    - हमारे यहाँ देश भर से रोगी चिकित्सा परामर्श हेतु आते हैं,या परामर्श करते हें, सभी का उज्जैन आना अक्सर धन, समय आदि कारणों से संभव नहीं हो पाता, एसी स्थिति में आप हमारे सहयोगी बन सकते हें| यदि आप पंजीकृत आयुर्वेद स्नातक (न्यूनतम) हें! आप पंचकर्म केंद्र अथवा पंचकर्म और आयुर्वेदिक चिकित्सा प्रक्रियाओं जैसे अर्श- क्षार सूत्र, रक्त मोक्षण, अग्निकर्म, वमन, विरेचन, बस्ती, या शिरोधारा जैसे विशिष्ट स्नेहनादी माध्यम से चिकित्सा कार्य करते हें, तो आप संपर्क कर सकते हें| 9425379102/ mail- healthforalldrvyas@gmail.com केवल परामर्श चिकित्सा कार्य करने वाले चिकित्सक सम्पर्क न करें|