Rescue from incurable disease

Rescue from incurable disease
लाइलाज बीमारी से मुक्ति उपाय है - आयुर्वेद और पंचकर्म चिकित्सा |
  • Home
  • Contact Us
  • About Me
  • Q & A
  • Article's स्वास्थ्य लेख
  • Panchakarma(पंचकर्म)
  • Common Article
  • Specific article (विशेष लेख)
  • VIDEO
  • आपका शरीर आपको आवाजें लगाकर भी सचेत करता है।

          क्या आप जानते हें? -
     आपका शरीर आपको आवाजें लगाकर भी सचेत करता है।
      जिस प्रकार से किसी कार या बाइक में जब कोई विशेष आवाजें आतीं हें तो हम तुरंत मेकेनिक के पास जा पहुँचते हें, पर शरीर में आने वाली इस आवाजों जैसे खर्राटे, पेट की आवाज़े, जोड की आवाजें, साँसों की आवाजें, कानो में होने वाली आवाजें, आदि-आदि के प्रति हमारे नजरिया बड़ा लापरवाही भरा होता हें। प्रारम्भिक अवस्था में तो इन आवाजों से उसी प्रकार कोई फर्क नहीं पढ़ता जिस तरह कार या बाईक के चलते रहने पर कोई फर्क नहीं पढ़ता जब तक की पानी सिर से ऊपर न हो जाए, यानि गाड़ी बंद न पड जाए। परंतु खराब गाड़ी ठीक हो सकती है, नई आ सकती है पर शरीर का कोई रिपलेसमेंट नहीं। अत: यदि आवाजें आयें तो सावधान जरूर हो जाए, चाहे तत्काल कोई हानी नहीं भी होने वाली हो।
    देखें विडिओ --आपका शरीर आपको आवाजें लगाकर भी सचेत करता है।
    1.  खर्राटे की आवाज- सोते समय खर्राटे आना इस बात का प्रतीक है की आपका वजन बढ़ गया है। वजन बढ्ने से गले के आस पास की चर्बी की अधिकता ही गले की मेम्ब्रेन या स्वर यंत्र में हवा के आने जाने के समय अवरोध होने से ये आवाजें आतीं हें। यह एक प्रकार का एलार्म भी है अब सावधान हो जाएँ नहीं तो -----?
    2. पेट की आवाजें -अक्सर कई व्यक्तियों के पेट से डकार या गुडगुड़ाहट की आवाज आतीं रहती हें। साधारणत: एसा होना कोई विशेष गंभीर बात नहीं एसा गेस के आने जाने से होता हे, खाली पेट आवाज कुछ खाने से ठीक हो जाती हे, अधिक खा लेने से डकारे आतीं हें यदि वे खट्टी हों तो अपने अधिक खा लिया हे लगातार एसा होने से डाइजेशन खराब होगा सावधान रहें। नीबू पानी एसी सभी आवाजों का एक अचूक इलाज है। 
    3. जोड़ों की आवाजें - अक्सर हम अपनी अंगुलिया को कभी कभी मोड़ते हें तो वे चटकने की आवाज करती हें इससे अच्छा लगता है, लगता है की जकड़न दूर हो गई। इससे कोई फर्क पड़ता भी नहीं। आवाजें होने का कारण जोड़ के मोड़ने पर बना हवा का बुलबुला फूटते ही आवाज का होना है। 
            इसी प्रकार से कभी कभी किसी किसी के चलने या सीडी उतरने चड़ने पर चट-चट की आवाजें आतीं हें। एसा अधिकतर घुटने के जोढ़ में अस्थियों के टकराने और बुलबुले के फूटने के कारण होती है। जो साधारणत: कोई विशेष बात नही होती। जोड़ों में एक प्रकार की मेम्ब्रेन, या जैल होती है, जो मूवमेंट्स के समय घर्षण या घिसने से बचाती है। साथ ही लिगामेंट्स या रस्सी जैसी रचनाएँ भी होती हें, जो घुटने या किसी भी जोड़ और मांस-पेशियों को एक साथ बांधकर रखने का काम करती हें। जब जैल कम हो जाए तब हड्डियाँ आपस में टकराने लगती हें इसीसे आवाजें होती हें। इसका अर्थ हें की वह व्यक्ति अपने आहार में संतुलन बना नहीं पा रहा है, ताकि आवश्यक पोषण मिलते रहने से जैल, मेम्ब्रेन, लिगामेंट्स मांस-पेशी आदि की भरपाई होती रहे। प्रारम्भ में इससे कोई हानी नहीं होती पर भविष्य के लिए यह आवाजें भी खतरे की घंटी है जो आगाह कर रही है। यदि यह स्थिति बदती रही तो वजन उठाने वाले, या मूड कर हमारा काम करने वाले जोड़ धीरे धीरे कमजोर होते चले जाएंगे। 
    4. कान में आवाजें- कभी कभी कान में एकाएक हवा जेसी संसनाहट, सुनाई देने लगती है, एसा वातावरण में हवा के दवाव कम हो जाने से (जैसा हवाई जहाज में सफर के दौरान होता है,) होता है परंतु हमेशा हवा का दवाव कम हो जरूरी नहीं। रक्त चाप के कारण भी एसा हो सकता है। 
      कभी कभी कान में अपने आप शोर होना, सीटी बजने जैसी आवाजें आना, या सोते जागते हर वक्त व्यक्ति को अपने कानों पर सुनाई देना यह कान के नर्वस की खराबी से होता है। एसा कान में फंगल इन्फेक्शन (फफूंद संक्रमण) आदि के कारणो से जब श्रवण यंत्र की कार्टिलेज खराब होने से होता है। इससे स्थायी बहरापन पैदा हो सकता है।
     टिनिटस कान बजने को आधुनिक चिकित्सा विज्ञान की भाषा में टिनीटिस कहा जाता है। बाहरी तौर पर इसका कोई लक्षण नहीं दिखता है। एसा बी पी के बढ़ने, शूगर, बुखार या सर्दी जुकाम के कारण अथवा बिना इन रोग के भी हो भी होता है। 
      बी.पी., शुगर नार्मल हो, व्यक्ति स्वस्थ हो, तब यह कान का बजना नर्वस प्राब्लम के कारण ही होता है। यह कान के बाहरी भाग में चोट लगने के कारण नहीं होता किन्तु कान के समीप लाउडस्पीकर की लगातार तेज आवाज के कारण कान में ऐसी समस्या हो सकती है जिसे ध्वनि ट्यूमर कहा जाता है।
    5. जबड़े की आवाज-  कई लोगों के मुंह खोलने बंद करने पर जबड़े की जोड़ की हड्डी में से भी टक-टक की आवाज आती है। यह ऊपर और नीचे के जबड़े के जोड़ के थोड़ा बहुत खिसक जाने जैसी समस्या के कारण भी होता है। एसा अधिकतर बहुत देर तक गन्ना(ईख) चूसने या चने जैसी सूखी चीज लगातार बहुत देर तक चबाते रहने के कारण लिगामेंट आदि में होने वाले घर्षण या सूजन आदि कारणो से होता है, सामान्यत: यह स्वयं ठीक भी हो जाता है। परंतु यदि कई दिन तक यह स्थिति बनी रहे तो स्थायी समस्या का कारण भी हो सकता है, कभी कभी चबाने वाले दांतों के घिस जाने से जबड़े अधिक पास रहते हें, इससे अलाइनमेंट बिगड़ जाने से भी इस प्रकार की समस्या उत्पन्न हो जाते है। इसके लिए तुरंत अपने दांतों के चिकित्सक से संपर्क करना चाहिए।    
    6. नाक की आवाज - सर्दी, जुकाम, खांसी, श्वास, साइनोसिटिस आदि रोगों में बार नाक से हल्की सीटी बजने की आवाज अवश्य सुनी होगी। पर बिना किसी रोग के भी एसा कभी कभी होता है। यह नाक में स्पेस की कमी के कारण होता है। कम स्पेस में जब सांस लेते समय एयर पास होती है तो सीटी बजने की आवाज आती है।
          रोग होने पर तो सभी इसकी चिकित्सा करवा ही लेते हें । परंतु बिना कारण आवाजें होना मानना खतरनाक है। नाक की नरम अस्थि (कार्टिलेज) में में विक्राति, या अन्य अवरोध का सतत रहना किसी बड़े रोग का बुलावा हो सकता है।

    समस्त चिकित्सकीय सलाह रोग निदान एवं चिकित्सा की जानकारी ज्ञान(शिक्षण) उद्देश्य से हे| प्राधिकृत चिकित्सक से संपर्क के बाद ही प्रयोग में लें| आपको कोई जानकारी पसंद आती है, ऑर आप उसे अपने मित्रो को शेयर करना/ बताना चाहते है, तो आप फेस-बुक/ ट्विटर/ई मेल/ जिनके आइकान नीचे बने हें को क्लिक कर शेयर कर दें। इसका प्रकाशन जन हित में किया जा रहा है।

    Book a Appointment.

    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

    स्वास्थ /रोग विषयक प्रश्न यहाँ दर्ज कर सकते हें|

    स्वास्थ है हमारा अधिकार

    हमारा लक्ष्य सामान्य जन से लेकर प्रत्येक विशिष्ट जन को समग्र स्वस्थ्य का लाभ पहुँचाना है| पंचकर्म सहित आयुर्वेद चिकित्सा, स्वास्थय हेतु लाभकारी लेख, इच्छित को स्वास्थ्य प्रशिक्षण, और स्वास्थ्य विषयक जन जागरण करना है| आयुर्वेदिक चिकित्सा – यह आयुर्वेद विज्ञानं के रूप में विश्व की पुरातन चिकित्सा पद्ध्ति है, जो ‘समग्र शरीर’ (अर्थात शरीर, मन और आत्मा) को स्वस्थ्य करती है|

    चिकित्सक सहयोगी बने:
    - हमारे यहाँ देश भर से रोगी चिकित्सा परामर्श हेतु आते हैं,या परामर्श करते हें, सभी का उज्जैन आना अक्सर धन, समय आदि कारणों से संभव नहीं हो पाता, एसी स्थिति में आप हमारे सहयोगी बन सकते हें| यदि आप पंजीकृत आयुर्वेद स्नातक (न्यूनतम) हें! आप पंचकर्म केंद्र अथवा पंचकर्म और आयुर्वेदिक चिकित्सा प्रक्रियाओं जैसे अर्श- क्षार सूत्र, रक्त मोक्षण, अग्निकर्म, वमन, विरेचन, बस्ती, या शिरोधारा जैसे विशिष्ट स्नेहनादी माध्यम से चिकित्सा कार्य करते हें, तो आप संपर्क कर सकते हें| 9425379102/ mail- healthforalldrvyas@gmail.com केवल परामर्श चिकित्सा कार्य करने वाले चिकित्सक सम्पर्क न करें|