Rescue from incurable disease

Rescue from incurable disease
लाइलाज बीमारी से मुक्ति उपाय है - आयुर्वेद और पंचकर्म चिकित्सा |
  • Home
  • Contact Us
  • About Me
  • Q & A
  • Article's स्वास्थ्य लेख
  • Panchakarma(पंचकर्म)
  • Common Article
  • Specific article (विशेष लेख)
  • VIDEO
  • Wheat sprouts in boiling water can we treat diabetes.

    अंकुरित गेहू (उबलते पानी में रख कर अंकुरित) से डाईविटिज हमेशा के लिए ठीक हो सकती है? 
    पिछले एक वर्ष से इस प्रकार की पोस्ट देखी जा रही है| इस बारें में कई ग़लतफ़हमी और धारणाएं बनी है| 
    यह सच है की गेहूं ही नही किसी भी बिज को यदि 10 मिनिट उबला जाये तो वह फिर अंकुरित हो ही नही सकता|

    मेने पाहिले भी कई बार कई जगह इस बात को लिखा है, की इसमें गेहूं को 10 मिनिट उबालने वाली बात को ट्रांशलेशन करने वालों ने गलत भाव लिया है| गौर करें की शोध कर्ता एसे स्थान के रहने वालेहें जहा अधिकांशत तापमान 0 डिग्री के आसपास रहता है| एसे स्थान पर गेहूं में अंकुरण तब तक संभव नहीं जब तक की टेम्प्रेचर 30 डिग्री नहो | 
    गेहूं या किसी भी बीज को ठन्डे स्थान पर सक्रिय करने गर्म पानी में रखा जाता है, और उसके लिए आवश्यक तापका वातावरण बनाकर ही अंकुरित किया जा सकता है| 
    अधिक ठन्डे मुल्को में पानी भी उबलने के तुरंत बाद ठन्डे वातावरण से ठंडा हो जाता है| उबलते पानी में जब 0 डिग्रीया उससेभी कम ताप का गेहूं डाला जायेगा तो वह पानी भी तुरंत ठंडा होगा, इस तापमान को बनाये रखने परिस्थिति अनुसार गर्म करनाऔर रखना भी होगा, नहीं तो अंकुरण होगा ही नहीं| 
    हमारे गर्म देश में एसाकरने की जरुरत नहीं, वैसे ही अंकुरण कर खाया हुआ गेहूं वह लाभ देगा| 
    उबालने और लाभ की यह बात उत्साह और शब्द का सीधा अर्थ कर के लिखी गई है, की रोग 3 दिन में ठीक होगा| गेहूं का अंकुरण एक बहुत कम केलोरी वाला और कम ग्लूकोज बनाने वाला होअता है इसके सेवन से डाईवीटिज नियंत्रित रहेगी, यह सच है| हमेशा के लिए ठीक होना शरीर में बनने वाले इन्सुलिन पर निर्भर है|

    अंकुरित अनाजों का प्रयोग वर्षो से किया जाता रहा है| साबुत और अंकुरित अनाज कोई भी हो वह लो केलोरी के साथ उसका जीआई या ग्लाइसेमिक इंडेक्स भी बहुत कम होता है| विशेषकर उगे हुए गेहूं के जवारे (गेहूं की घास) में और अधिक कम होता है,(गेहू से कम) | इससे ब्लड सुगर बड़ती नही, यदी जीवन इसी प्रकार के खाने के साथ हो और इन्सुलिन बनाना बिलकुल बंद न हुआ हो तो बिना किसी डाइबिटीक मेडिसिन के ठीक रहा जा सकता है| इसे रोग ठीक होना भी कह दें तो गलत नहीं|
    यह बात भी समझ लें की केवल अंकुरित गेहूं डाईविटिज रोगियों की सुगर भी बड़ा सकते हें, यदि अन्य नियमित खाद्य भी दिन में लिए जा रहे हें|
              इस लिए इस "डाईविटिज की एक महा-खोज" वाली बात  'की 10 मिनिट उबलते पानी में गेहू रखकर फिर अंकुरित कर खाने से डाईविटीज ठीक होगी' शायद हो यदि उगाना संभव हो तो ही ?  क्योंकि न तो उबले गेहूं अंकुरित होंगे और न उन्हें खाया जा सकेगा और न रोग ठीक होगा|  यदि कोई चमत्कार कर सका तो रोग भी उसी चमत्कार से ठीक होगा ही| 

    समस्त चिकित्सकीय सलाह रोग निदान एवं चिकित्सा की जानकारी ज्ञान(शिक्षण) उद्देश्य से हे| प्राधिकृत चिकित्सक से संपर्क के बाद ही प्रयोग में लें| आपको कोई जानकारी पसंद आती है, ऑर आप उसे अपने मित्रो को शेयर करना/ बताना चाहते है, तो आप फेस-बुक/ ट्विटर/ई मेल/ जिनके आइकान नीचे बने हें को क्लिक कर शेयर कर दें। इसका प्रकाशन जन हित में किया जा रहा है।
    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

    स्वास्थ /रोग विषयक प्रश्न यहाँ दर्ज कर सकते हें|

    स्वास्थ है हमारा अधिकार

    हमारा लक्ष्य सामान्य जन से लेकर प्रत्येक विशिष्ट जन को समग्र स्वस्थ्य का लाभ पहुँचाना है| पंचकर्म सहित आयुर्वेद चिकित्सा, स्वास्थय हेतु लाभकारी लेख, इच्छित को स्वास्थ्य प्रशिक्षण, और स्वास्थ्य विषयक जन जागरण करना है| आयुर्वेदिक चिकित्सा – यह आयुर्वेद विज्ञानं के रूप में विश्व की पुरातन चिकित्सा पद्ध्ति है, जो ‘समग्र शरीर’ (अर्थात शरीर, मन और आत्मा) को स्वस्थ्य करती है|

    चिकित्सक सहयोगी बने:
    - हमारे यहाँ देश भर से रोगी चिकित्सा परामर्श हेतु आते हैं,या परामर्श करते हें, सभी का उज्जैन आना अक्सर धन, समय आदि कारणों से संभव नहीं हो पाता, एसी स्थिति में आप हमारे सहयोगी बन सकते हें| यदि आप पंजीकृत आयुर्वेद स्नातक (न्यूनतम) हें! आप पंचकर्म केंद्र अथवा पंचकर्म और आयुर्वेदिक चिकित्सा प्रक्रियाओं जैसे अर्श- क्षार सूत्र, रक्त मोक्षण, अग्निकर्म, वमन, विरेचन, बस्ती, या शिरोधारा जैसे विशिष्ट स्नेहनादी माध्यम से चिकित्सा कार्य करते हें, तो आप संपर्क कर सकते हें| 9425379102/ mail- healthforalldrvyas@gmail.com केवल परामर्श चिकित्सा कार्य करने वाले चिकित्सक सम्पर्क न करें|