Rescue from incurable disease

Rescue from incurable disease
लाइलाज बीमारी से मुक्ति उपाय है - आयुर्वेद और पंचकर्म चिकित्सा |
  • Home
  • Contact Us
  • About Me
  • Q & A
  • Article's स्वास्थ्य लेख
  • Panchakarma(पंचकर्म)
  • Common Article
  • Specific article (विशेष लेख)
  • VIDEO
  • मस्तिष्क के लिए हानि पहचाने वाली आदतें|

    क्या आप अपने स्वास्थ्य के बारे में ख्याल रखना चाहेंगे
    और यह केवल आपके ही लिए नहीं उनके लिए भी जो आपको प्यार करते हें, आपकी परवाह रखते हें। अपने स्वस्थ का ख्याल रख कर आप अपनों को आपकी बीमारी से होने वाले कष्टों से भी बचा सकेंगे। इसे कष्ट जो संभवतय आप देख या भोग चुके हों।





    मस्तिष्क के लिए हानि पहचाने वाली आदतें|
    1. प्रतिदिन  नाश्ता न करना |
    जो लोग नियमित रूप से नाश्ता नहीं लेते उन्हें  मस्तिष्क में शर्करा के स्तर कम होने का खतरा बना रहता हे।
    यह खतरा  पोषक तत्वों की अपर्याप्त आपूर्ति के कारण मस्तिष्क क्षति ग्रस्त (brain degeneration.) होने के कारण हो सकता है।
    2. अधिक खाना (Overeating) 
    अधिक खाना खाने से  मस्तिष्क की धमनियों(arteries) कोलेस्ट्रोल जम जाने से  सख्त हो जाती हें, इससे कोशिकाओ(सेल्स)को पोषण में कमी हो जाती हे।यह मानसिक शक्ति(स्मरण एवं कार्य क्षमता) में कमी होने से होता है।.
    3. धूम्रपान (Smoking )
    यह  मस्तिष्क संकोचन(multiple brain shrinkage) का कारण बनता है जो  अल्जाइमर(Alzheimer) रोग(भूल जाने का रोग) को जन्म दे सकता है।
    4. बहुत मीठा खाते रहने से
    ( High Sugar consumption )
    अधिक चीनी या मीठे पदार्थो का सेवन से प्रोटीन और पोषक तत्वों के अवशोषण (absorption) में बाधा होने से कुपोषण और मस्तिष्क के विकास में कमी का कारण से भी  मस्तिष्क को हानी पहुचती है
    5.वायु प्रदूषण Air Pollution 
    हमारा मस्तिष्क को हमारे शरीर में ऑक्सीजन की सबसे अधिक जरुरत होते हे, प्रदूषित हवा में श्वास (inhaling) लेने से मस्तिष्क को ऑक्सीजन की आपूर्ति कम हो जाती है, इससे मस्तिष्क की कार्य क्षमता या दक्षता में कमी होने लगती है
    6. नींद की कमी Sleep Deprivation 
    सोने(Sleeping) के समय हमारे मस्तिष्क को आराम मिलता हे। अधिक देर तक जागने या न सो पाने से मस्तिष्क कोशिकाओं की क्षति या मौत होती हे। 
     7. सिर को ढक कर सोने से
    सर को ढक कर या पूरी तरह मुह सहित ओड़कर सोने से कार्बन डाइऑक्साइड की मात्रा चदर के अन्दर अधिक हो जाती हे, इससे ऑक्सीजनकी कमी होने से मस्तिष्क को हानि होने की सम्भावना अधिक हो जाती है ।
    8. बीमारी के दौरान अपने मस्तिष्क कार्य करते रहना
    बिमारियों से कमजोर या कठोर शारीरिक कार्यो के दोरान अध्ययन अद्यापन आदि मस्तिष्क के काम भी करते रहने से कार्यक्षमता में गिरावट के साथ मस्तिष्क को क्षति हो जाती है
    9. उत्तेजक विचारों से।  
     अच्छा  सोचना(पोसिटिव थिंकिंग) (मानसिक जप आदि)  हमारे मस्तिष्क को प्रशिक्षित करने का सबसे अच्छा तरीका है, मस्तिष्क की उत्तेजना विचारों (thoughts) में कमी कर देता हे। इस कारण मस्तिष्क का संकोचन होने से उसे हानी पहुचती है
    10. कम बात-चीत 
     Talking Rarely
    बौद्धिक बातचीत(Intellectual conversations) मस्तिष्क की क्षमता को बढ़ाने का सबसे अच्छा रास्ता है
    क्या आप अपने स्वास्थ्य के बारे में ख्याल रखना चाहेंगे और यह केवल आपके ही लिए नहीं  उनके लिए भी जो आपको प्यार करते हें, आपकी परवाह रखते हें। अपने स्वस्थ का ख्याल रख कर आप अपनों को आपकी बीमारी से होने वाले कष्टों से भी बचा सकेंगे। इसे कष्ट जो संभवतय आप देख या भोग चुके हों।  
    यह संदेश भी आयुर्वेद के लिए वैज्ञानिक दृष्टिकोण  का एक विषय हो सकता है

    DO TAKE CARE ABOUT YOUR HEALTH... ........... 
    AND PASS THIS TO ALL WHOM YOU LOVE & CARE FOR 
    the message can be also given a subject of "Scientific approach to ayurveda"
    --------------------------------------------------------------------------------------------- 
    अज्ञात का यह लेख  अनुवादित(भाव-अनुबाद)  है ।
    ---------------------------------------------------------------------------------------------
    समस्त चिकित्सकीय सलाह रोग निदान एवं चिकित्सा की जानकारी ज्ञान(शिक्षण) उद्देश्य से हे| प्राधिकृत चिकित्सक से संपर्क के बाद ही प्रयोग में लें|

    Book a Appointment.

    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

    स्वास्थ /रोग विषयक प्रश्न यहाँ दर्ज कर सकते हें|

    स्वास्थ है हमारा अधिकार

    हमारा लक्ष्य सामान्य जन से लेकर प्रत्येक विशिष्ट जन को समग्र स्वस्थ्य का लाभ पहुँचाना है| पंचकर्म सहित आयुर्वेद चिकित्सा, स्वास्थय हेतु लाभकारी लेख, इच्छित को स्वास्थ्य प्रशिक्षण, और स्वास्थ्य विषयक जन जागरण करना है| आयुर्वेदिक चिकित्सा – यह आयुर्वेद विज्ञानं के रूप में विश्व की पुरातन चिकित्सा पद्ध्ति है, जो ‘समग्र शरीर’ (अर्थात शरीर, मन और आत्मा) को स्वस्थ्य करती है|

    चिकित्सक सहयोगी बने:
    - हमारे यहाँ देश भर से रोगी चिकित्सा परामर्श हेतु आते हैं,या परामर्श करते हें, सभी का उज्जैन आना अक्सर धन, समय आदि कारणों से संभव नहीं हो पाता, एसी स्थिति में आप हमारे सहयोगी बन सकते हें| यदि आप पंजीकृत आयुर्वेद स्नातक (न्यूनतम) हें! आप पंचकर्म केंद्र अथवा पंचकर्म और आयुर्वेदिक चिकित्सा प्रक्रियाओं जैसे अर्श- क्षार सूत्र, रक्त मोक्षण, अग्निकर्म, वमन, विरेचन, बस्ती, या शिरोधारा जैसे विशिष्ट स्नेहनादी माध्यम से चिकित्सा कार्य करते हें, तो आप संपर्क कर सकते हें| 9425379102/ mail- healthforalldrvyas@gmail.com केवल परामर्श चिकित्सा कार्य करने वाले चिकित्सक सम्पर्क न करें|