Rescue from incurable disease

Rescue from incurable disease
लाइलाज बीमारी से मुक्ति उपाय है - आयुर्वेद और पंचकर्म चिकित्सा |
  • Home
  • Contact Us
  • About Me
  • Q & A
  • Article's स्वास्थ्य लेख
  • Panchakarma(पंचकर्म)
  • Common Article
  • Specific article (विशेष लेख)
  • VIDEO
  • बड़ी हुई प्रोस्टेट 50 साल की उम्र के बाद की मुसीबत।


    सामान्यतय: बड़ी हुई प्रोस्टेट 50 साल की उम्र के बाद की मुसीबत हे। पर कभी कभी कम आयु में भी देखा गया हे। आयुर्वेद के अनुसार अति मैथुन या हस्त मैथुन इसका मूल कारण हे। इस कारण इससे बचने के लिए नव जवानों को भी इसका ज्ञान होना आवश्यक हे ताकि समय रहते बचा जा सके। अनुवांशिक या जीन्स से भी यह हो सकता हे। 

    प्रोस्टेट क्या होता हे और शरीर में क्या उपयोग हे ?
    प्रोस्टेट एक अखरोट के आकार की ग्रंथि जो की मलाशय के सामने और बस के मूत्राशय के नीचे स्थित होती हे। प्रोस्टेट कई प्रकार की कोशिकाओं का बनी होती हें। प्रोस्टेट रक्त और लसीका वाहिकाओं जो अंगूर के गुच्छे जेसी बनावट से घिरा हुआ होता हे ये रक्त वाहिका संचार प्रणाली का हिस्सा होती हें। ये ऑक्सीजन और पोषक तत्वों की आपूर्ति और प्रोस्टेट की कोशिकाओं से अपशिष्ट हटाने(सफाई) का कार्य भी करती हें । इस प्रोस्टेट ग्रंथि का कार्य वीर्य ​​द्रवनिर्माण करना होता हे। यह द्रव लाभदायक तरल पदार्थ है। मूत्रमार्ग से स्खलन के दौरान शुक्राणु के लिए पोषण देता हे, pH को बढाता हे,एवं योनी में उत्पन्न अम्ल को कम( Neutralize) कर शुक्राणु या sperm को अपने कार्य में सहायक होता हे। युवा आदमी में प्रोस्टेट एक अखरोट के आकार से धीरे धीरे उम्र के साथ बड़ा बढ़ जाता हे । अगर यह और अधिक बड़ा हो जाता है तो समस्या पैदा कर सकता हैं। 
    यह शिकायत 50 साल की उम्र के बाद बहुत अधिक पाई जाती हे। बड़ी हुई प्रोस्टेट अक्सर50 साल की उम्र के बाद मुसीबत का कारण बन जाती हें। 

    प्रोस्टेट बड़ने से कई अलग अलग प्रकार समस्यायें हो सकतीं हैं।
    (Signs of Prostate Problems)

    इनमें बार-बार मूत्रत्याग करने की इच्छा होती हे। मूत्र या वीर्य में रक्त भी जा सकता हे। मूत्र त्याग के समय दर्द या जलन होती हे। मूत्रत्याग बड़ी कठिनाई से होता हे।क्योकि बड़ी हुई प्रोस्टेट मूत्र नाली को अधिक दबाकर बंद रखती हे । (सामान्य आकर की प्रोस्टेट मूत्र को केवल तब तक रोकती हे जब तक की व्यक्ति स्वयं न करने की कोशिश करे।)

    उत्तेजित होने में कठिनाई(Difficulty in having an erection)या दर्दनाक स्खलन (Painful ejaculation)। कमर के निचले भाग,कूल्हे,और जांघों में तेज दर्द और जकड़ाहट का अनुभव (Frequent pain or stiffness in lower back, hips, or upper thighs) 
    मूत्र त्याग न हो पाना (Inability to urinate) या बूंद-बूंद कर मूत्र आना(Dribbling of urine)।

    प्रोस्टेट न बढ(prostatic hyperplasia) प्रोस्टेट में संक्रमण भी हो सकता हे। 
     प्रोस्तेटाटीस ( Prostatitis) - यह प्रोस्टेट में होने वाला एक संक्रमण है, आमतौर परयह बैक्टीरिया की वजह से होता हे। तीव्र prostatitis प्रोस्टेट के एक संक्रमण जीवाणु के कारण होता है. यह आमतौर पर तेजी से शुरू होता है और पीठ के निचले हिस्से और पैरों के बीच में जकडन , बुखार, ठंड लगना, या दर्द पैदा कर सकता है. जब आप पेशाब करते समय भी यह दर्द होता है। यदि आप में ऐसे लक्षण है तुरंत अपने चिकित्सक से संपर्क करें एंटीबायोटिक दवाओं से लक्षणों को राहत देने में मदद करते हैं। अधिक तरल पदार्थ पीना आवश्यक होता हे। आयुर्वेदिक ओषधियों द्वारा भी यह संक्रमण ठीक किया जा सकता हे।


    प्रोस्टेट कैंसर होना भी एक आम शिकायत है इसका जल्दी पता लगाया जाना इलाज के लिए सबसे अच्छा उपाय हे।प्रोस्टेट कैंसर में उपरोक्त के अतिरिक्त अन्य के लक्षणों में शामिल हो सकते हें।


    जिन प्रोस्टेट वृधि में केंसर नहीं है, उनका प्रोस्टेट समस्याओं का उपचार अक्सर यौन कार्य को प्रभावित किए बिना इलाज किया जा सकता है।
     यदि प्रोस्टेट में कैंसर ग्रंथियों कोशिकाओं में विकसित हो जाएँ तो कैंसर या ग्रंथिकर्कटता (prostate-Cancer) Adenocarcinoma. के रूप में जानी जाती हें।
    चिकित्सक द्वारा प्रोस्टेट की जाँच अंगुली द्वारा मलाशय की दीवार पर दबाव डालकर महसूस की जाती हे या प्रोस्टेट विशिष्ट प्रतिजन (पीएसए) के लिए एक रक्त परीक्षण करने से ज्ञात हो जाता हे। प्रोस्टेट कैंसर का निदान अन्य परीक्षण जिनमें अल्ट्रासाउंड, एक्स रे, या एक बायोप्सी शामिल हैं द्वारा किया जाता हे।

    उपचार अक्सर कैंसर की अवस्था पर निर्भर करता है। प्रोस्टेट कैंसर के लिए कई उपचार के विकल्प है। शल्य चिकित्सा,(surgery ) विकिरण चिकित्सा,(radiation therapy) हार्मोन थेरेपी (hormone therapy) और रसायन चिकित्सा (chemotherapy) शामिल हैं। उपचार की एक या अधिक विकल्प हो सकते है।

    जीर्ण prostatitis प्रोस्टेट संक्रमण है कि समय के बाद वापस आने के समय रहता है. लक्षण तीव्र prostatitis की तुलना में मामूली हो सकते हैं, लेकिन वे अब पिछले कर सकते हैं. जीर्ण prostatitis के इलाज के लिए मुश्किल हो सकता है. एंटीबायोटिक्स अगर जीवाणु संक्रमण पैदा कर रहे हैं काम कर सकते हैं. लेकिन अगर बैक्टीरिया के कारण नहीं कर रहे हैं, एंटीबायोटिक दवाओं से काम नहीं करेगा. प्रोस्टेट कभी कभी मालिश के लिए तरल पदार्थ जारी करने में मदद करता है. गर्म स्नान भी राहत ला सकते हैं. अक्सर जीर्ण prostatitis से ही साफ करता है।
    सौम्य prostatic hyperplasia (BPH) के लिए एक बढ़ी हुई प्रॉस्टेट ग्रंथि का वर्णन शब्द का इस्तेमाल किया है. BPH पुराने पुरुषों में आम है. समय के साथ, एक बढ़ी हुई प्रॉस्टेट ग्रंथि मूत्रमार्ग ब्लॉक, यह मुश्किल पेशाब करने के लिए बना सकते हैं. यह ड्रिब्लिंग के कारण के बाद आप पेशाब या विशेष रूप से रात में पेशाब के लिए एक लगातार आग्रह कर सकते हैं. आपका डॉक्टर BPH के निदान के लिए एक गुदा परीक्षा का संचालन करेंगे. डॉक्टर भी अपने मूत्रमार्ग, प्रोस्टेट, मूत्राशय और पर लग सकता है।
    आयुर्वेदिक चिकित्सक बड़े हुए प्रोस्टेट होने या संक्रमण होने पर सहायता कर सकते हें। पर देखा गया हे बड़ा हुई ग्रंथि पूरी तरह ठीक नहीं हो पाती। 
    =====
    समस्त चिकित्सकीय सलाह रोग निदान एवं चिकित्सा की जानकारी ज्ञान(शिक्षण) उद्देश्य से हे| प्राधिकृत चिकित्सक से संपर्क के बाद ही प्रयोग में लें|
    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

    स्वास्थ /रोग विषयक प्रश्न यहाँ दर्ज कर सकते हें|

    स्वास्थ है हमारा अधिकार

    हमारा लक्ष्य सामान्य जन से लेकर प्रत्येक विशिष्ट जन को समग्र स्वस्थ्य का लाभ पहुँचाना है| पंचकर्म सहित आयुर्वेद चिकित्सा, स्वास्थय हेतु लाभकारी लेख, इच्छित को स्वास्थ्य प्रशिक्षण, और स्वास्थ्य विषयक जन जागरण करना है| आयुर्वेदिक चिकित्सा – यह आयुर्वेद विज्ञानं के रूप में विश्व की पुरातन चिकित्सा पद्ध्ति है, जो ‘समग्र शरीर’ (अर्थात शरीर, मन और आत्मा) को स्वस्थ्य करती है|

    चिकित्सक सहयोगी बने:
    - हमारे यहाँ देश भर से रोगी चिकित्सा परामर्श हेतु आते हैं,या परामर्श करते हें, सभी का उज्जैन आना अक्सर धन, समय आदि कारणों से संभव नहीं हो पाता, एसी स्थिति में आप हमारे सहयोगी बन सकते हें| यदि आप पंजीकृत आयुर्वेद स्नातक (न्यूनतम) हें! आप पंचकर्म केंद्र अथवा पंचकर्म और आयुर्वेदिक चिकित्सा प्रक्रियाओं जैसे अर्श- क्षार सूत्र, रक्त मोक्षण, अग्निकर्म, वमन, विरेचन, बस्ती, या शिरोधारा जैसे विशिष्ट स्नेहनादी माध्यम से चिकित्सा कार्य करते हें, तो आप संपर्क कर सकते हें| 9425379102/ mail- healthforalldrvyas@gmail.com केवल परामर्श चिकित्सा कार्य करने वाले चिकित्सक सम्पर्क न करें|