Rescue from incurable disease

Rescue from incurable disease
लाइलाज बीमारी से मुक्ति उपाय है - आयुर्वेद और पंचकर्म चिकित्सा |
  • Home
  • Contact Us
  • About Me
  • Q & A
  • Article's स्वास्थ्य लेख
  • Panchakarma(पंचकर्म)
  • Common Article
  • Specific article (विशेष लेख)
  • VIDEO
  • त्वचा के मोश्चराइजरस

    क्या हम जानते हें की  त्वचा को मोश्चारईजर करने वाली  क्रीमो आदि में हानिकारक हो सकने वाले और न जाने कोन कोन से तेल / सूअर आदि की चर्वियों,और रसायनिक तत्व होतें हें? 
    यह जानने के पाहिले यह जानना होगा की शरीर की त्वचा को स्निग्ध या चिकना बनाये रखने वाले पदार्थ ही मोश्चराइजर कहलाते हें| अधिकतर गर्म स्थानों में रहने वालों की त्वचा खुश्क हो जाती हे इससे त्वचा के छिद्र बंद हो जाते हें और पसीना न आने से त्वचा का मल या गन्दगी निकल नहीं पाती परिणामस्वरूप खुजली /फोड़े फुंसी  आदि  चर्मरोग मुहं पर मुहांसे एक्ने आदि बनने लगते हें |
    इसीलिए  मोश्चराइजर की आवश्यकता होती हे | बाज़ार में बहुत सारे मोश्चराइजर मिलते हें, पर क्या आप जानते हें? सबसे अच्छा मोश्चराइजर "तेल" होता हें | जो कई लोगो द्वारा मालिश आदि की सहायता से त्वचा को दिया तो जाता हे पर एक भूल 'मालिश के बाद नहाने या नहलाने से पूरी तरह निकल जाता हे| और यदि साबुन,शेम्पू  आदि का प्रयोग कर लिया तो वापिस त्वचा खुश्क हो जाती हे| 
    क्या करें? 
    वास्तव में सभी बाद में इसलिए तो नहाते हें की जो तेल चमड़ी पर लगा हे वह निकल जाये और कपडे आदि चिकने न करे| 
    इससे बचने का रास्ता हे | 
    १- कम से कम तेल लगाया जाये| 
    २- मालिश के तुरंत बाद न नहाकर देर से नहाये और साबुन आदि का प्रयोग नहीं किया जाये ,यदि शरीर को साबुन से धोना आवश्यक हो तो पाहिले साबुन से नहा ले फिर मालिश करें अधिक तेल हटाने केवल ठन्डे पानी का प्रयोग करे| 
    ३- बाल्टी में पानी के साथ थोडा तेल डाल लें फिर उससे नहाये तो शरीर को मोश्चराइज करने की जरुरत नहीं होगी| 

     इस प्रकार से बिना अधिक खर्च किये हम इन प्राक्रतिक और सुलभ तेल आदि को मोश्चराइजरस के रूप में प्रयोग कर के हानिकारक हो सकने वाले और न जाने किन किन तेलों सूअर आदि की चर्वियों,और रसायनों से बनी क्रीमो से बचा जा सकता हे| आयुर्वेद के अनुसार भी यही श्रेष्ट हे|
    ========================================================================

    समस्त चिकित्सकीय सलाह रोग निदान एवं चिकित्सा की जानकारी ज्ञान(शिक्षण) उद्देश्य से हे| प्राधिकृत चिकित्सक से संपर्क के बाद ही प्रयोग में लें|
    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

    स्वास्थ /रोग विषयक प्रश्न यहाँ दर्ज कर सकते हें|

    स्वास्थ है हमारा अधिकार

    हमारा लक्ष्य सामान्य जन से लेकर प्रत्येक विशिष्ट जन को समग्र स्वस्थ्य का लाभ पहुँचाना है| पंचकर्म सहित आयुर्वेद चिकित्सा, स्वास्थय हेतु लाभकारी लेख, इच्छित को स्वास्थ्य प्रशिक्षण, और स्वास्थ्य विषयक जन जागरण करना है| आयुर्वेदिक चिकित्सा – यह आयुर्वेद विज्ञानं के रूप में विश्व की पुरातन चिकित्सा पद्ध्ति है, जो ‘समग्र शरीर’ (अर्थात शरीर, मन और आत्मा) को स्वस्थ्य करती है|

    चिकित्सक सहयोगी बने:
    - हमारे यहाँ देश भर से रोगी चिकित्सा परामर्श हेतु आते हैं,या परामर्श करते हें, सभी का उज्जैन आना अक्सर धन, समय आदि कारणों से संभव नहीं हो पाता, एसी स्थिति में आप हमारे सहयोगी बन सकते हें| यदि आप पंजीकृत आयुर्वेद स्नातक (न्यूनतम) हें! आप पंचकर्म केंद्र अथवा पंचकर्म और आयुर्वेदिक चिकित्सा प्रक्रियाओं जैसे अर्श- क्षार सूत्र, रक्त मोक्षण, अग्निकर्म, वमन, विरेचन, बस्ती, या शिरोधारा जैसे विशिष्ट स्नेहनादी माध्यम से चिकित्सा कार्य करते हें, तो आप संपर्क कर सकते हें| 9425379102/ mail- healthforalldrvyas@gmail.com केवल परामर्श चिकित्सा कार्य करने वाले चिकित्सक सम्पर्क न करें|