Rescue from incurable disease

Rescue from incurable disease
लाइलाज बीमारी से मुक्ति उपाय है - आयुर्वेद और पंचकर्म चिकित्सा |
  • Home
  • Contact Us
  • About Me
  • Q & A
  • Article's स्वास्थ्य लेख
  • Panchakarma(पंचकर्म)
  • Common Article
  • Specific article (विशेष लेख)
  • VIDEO
  • हस्तमेथुन की आदत ओर व्यसन या लत बनती है तो हानी होना ही है।

    प्रश्न -
      hello sir mera age 26 shal hai 14 shal se roj hatsmathun mai din mai 2,3 baar.leta hu ish se koi problem nhi na hota h sir aghar hota h tho koi upay batay sir plese
    • आर. रॉय

    उत्तर -
    यह प्राकृतिक क्रिया नहीं है। उत्तेजना में एकाध बार हस्तमैथुन से न हानी होती है ओर न ही व्यसन बनता है। पर यदि रोज होने लगे तो, व्यसन बन जाता है।  हस्तमेथुन जब रोज की आदत ओर एक नशा जैसा व्यसन या लत बनती है तो हानी होना ही है।

     कोई भी लत प्रारम्भिक काल में हानी पहुँचाती नहीं दिखती, परंतु  आदत पढ़ जाने से इन्ही व्यसनों में आनंद आने लगते है यह आदत आसान ओर सुगम होने से बढ़ती जाती है। फिर वर्तमान चिकित्सक इसको खराब नहीं मानते हें , इससे भी मन को तसल्ली मिलती है ओर आदत की अधिकता होने से उचित सेक्स करने के प्रति उदासीनता बड्ती है, वह व्यक्ति धीरे धीरे नपुंसक होने लगता है।  
      किसी भी प्रकार का व्यसन यदि एक बार आदत में आ जाए तो उसकी मात्रा कभी घटती नहीं, ओर बढ़ती ही जाती है। व्यसन छोड़ने के लिए संकल्पवान होना होगा। यदि इतना सामर्थ्य नही है तो विवाह करना ठीक है या यदी किसी कारण से विवाहिता पत्नी के साथ नहीं रह रहे हें तो जरूरी है की साथ रहें। 
      पुन: यह जान लें की हमारे मन आसानी से उपलब्ध होने वाली बात जल्दी स्वीकार कर लेता है। इसकारण से हस्त मैथुन की लत लगाना आसान होता है।

    सेक्स समस्या ओर लेख पढे 
    ==============================================================
    समस्त चिकित्सकीय सलाह रोग निदान एवं चिकित्सा की जानकारी ज्ञान(शिक्षण) उद्देश्य से हे| प्राधिकृत चिकित्सक से संपर्क के बाद ही प्रयोग में लें| आपको कोई जानकारी पसंद आती है, ऑर आप उसे अपने मित्रो को शेयर करना/ बताना चाहते है, तो आप फेस-बुक/ ट्विटर/ई मेल/ जिनके आइकान नीचे बने हें को क्लिक कर शेयर कर दें। इसका प्रकाशन जन हित में किया जा रहा है।
    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

    स्वास्थ /रोग विषयक प्रश्न यहाँ दर्ज कर सकते हें|

    स्वास्थ है हमारा अधिकार

    हमारा लक्ष्य सामान्य जन से लेकर प्रत्येक विशिष्ट जन को समग्र स्वस्थ्य का लाभ पहुँचाना है| पंचकर्म सहित आयुर्वेद चिकित्सा, स्वास्थय हेतु लाभकारी लेख, इच्छित को स्वास्थ्य प्रशिक्षण, और स्वास्थ्य विषयक जन जागरण करना है| आयुर्वेदिक चिकित्सा – यह आयुर्वेद विज्ञानं के रूप में विश्व की पुरातन चिकित्सा पद्ध्ति है, जो ‘समग्र शरीर’ (अर्थात शरीर, मन और आत्मा) को स्वस्थ्य करती है|

    चिकित्सक सहयोगी बने:
    - हमारे यहाँ देश भर से रोगी चिकित्सा परामर्श हेतु आते हैं,या परामर्श करते हें, सभी का उज्जैन आना अक्सर धन, समय आदि कारणों से संभव नहीं हो पाता, एसी स्थिति में आप हमारे सहयोगी बन सकते हें| यदि आप पंजीकृत आयुर्वेद स्नातक (न्यूनतम) हें! आप पंचकर्म केंद्र अथवा पंचकर्म और आयुर्वेदिक चिकित्सा प्रक्रियाओं जैसे अर्श- क्षार सूत्र, रक्त मोक्षण, अग्निकर्म, वमन, विरेचन, बस्ती, या शिरोधारा जैसे विशिष्ट स्नेहनादी माध्यम से चिकित्सा कार्य करते हें, तो आप संपर्क कर सकते हें| 9425379102/ mail- healthforalldrvyas@gmail.com केवल परामर्श चिकित्सा कार्य करने वाले चिकित्सक सम्पर्क न करें|