Rescue from incurable disease

Rescue from incurable disease
लाइलाज बीमारी से मुक्ति उपाय है - आयुर्वेद और पंचकर्म चिकित्सा |
  • Home
  • Contact Us
  • About Me
  • Q & A
  • Article's स्वास्थ्य लेख
  • Panchakarma(पंचकर्म)
  • Common Article
  • Specific article (विशेष लेख)
  • VIDEO
  • डेंड्रफ या रूसी

    प्रश्न- Jai shree krishna ..aap bataa sakte he agar dandruff badi wali ka ilaaj?  kyo hoti he.? meri beti 20 year ko ho jaati he baar baar.
    उत्तर --समान्यत: डेंड्रफ या रूसी शिर की त्वचा की त्वचा कोशिकाओं के मरने (डैड सेल्स) होती है। जो एक सामान्य प्रक्रिया है। प्रतिदिन सिर की साफ सफाई न कर पाना इसका प्रमुख कारण है।
    बालों की ठीक तरह से सफाई न करने के अतिरिक, बालों को सही पोषण न मिलना या फिर बालों में तेल न लगाने से भी डेंड्रफ हो सकती है।
    अधिक तनाव या पसीने के कारण भी ये समस्या पनप सकती है।
    कुछ में सीबम (चिकनाहट) उत्पन्न करने वाली ग्रंथियों के ज्यादा सक्रिय होने की वजह से भी डेंड्रफ हो जाता है।
    इन बातों के अलावा कम पानी पीने ओर भोजन में पोषक तत्वों की कमी के कारण भी डेंड्रफ हो सकता है।
    युवावस्था में अधिक मात्रा में हॉर्मोंन्स रिलीज होने से भी डैंड्रफ हो सकती है।

    आयुर्वेद डैंड्रफ दूर करने सहायक है। 

    1 डैंड्रफ की समस्या होने पर सिर की सफाई का ध्यान रखना आवश्यक है। इसीलिए सप्ताह में दो-तीन बार अच्छा हर्बल शैंपू ओर सिर की अच्छी तरह से मालिश करनी चाहिए।
    2 रोज रात को बालों की जड़ों में कपूर मिला नारियल तेल से मालिश करें ओर सुबह शिकाकाई रीठा ओर नीम के पत्ते पानी में उबाल कर उस पानी से बाल धो लें।
    3 विटामिन ई ऑयल से स्कॉप्ल की मालिश लाभ दायक होती है। 
    4- बालों में तेल लगाने के बाद स्टीम्ड तौलिए का प्रयोग करना भी अच्छा रहता है । 
    5 गर्म तेल से स्कॉल्प की मसाज करने से सिर की त्वचा को पोषण मिलता है।
    6 खाने-पीने का खासा ध्यान रखना जरूरी होता है। ऐसे में खूब पानी पीना चाहिए।
    7 दही को बालों में कम से कम आधे घंटे तक लगाने से डैंड्रफ को दूर किया जा सकता है।
    8 नीबू का रस और काली मिर्च पाउडर मिलाकर बालों की जड़ों में लगाना भी अच्छा रहता है।
    9 विज्ञापन वाले तेल बालों का झड़ना बढ़ा सकता है। ऐसे में जड़ीबूटी युक्त नीम और काले तिल का तेल मिलाकर अधिक डैंड्रफ होने पर सप्ताह में कम से कम तीन बार लगाएं।
    10 खान-पान बालों की सेहत के लिए मायने रखता है। हरी पत्तेदार सब्जियां, अंकुरित अनाज, ककड़ी, उबली हुई सब्जियां, फलियां, गाजर आदि को भोजन में शामिल करें। एलडीएल(खराब कोलेस्ट्रॉल) बालों की ग्रोथ में भी बाधक है। इसीलिए इसकी मात्रा कम ही होनी चाहिए। एच डी एल (अच्छा कोलेष्ट्रोल) पाने के लिए अलसी को खाने में शुमार करना एक लाभदायक सौदा है।

    समस्त चिकित्सकीय सलाह रोग निदान एवं चिकित्सा की जानकारी ज्ञान(शिक्षण) उद्देश्य से हे| प्राधिकृत चिकित्सक से संपर्क के बाद ही प्रयोग में लें| आपको कोई जानकारी पसंद आती है, ऑर आप उसे अपने मित्रो को शेयर करना/ बताना चाहते है, तो आप फेस-बुक/ ट्विटर/ई मेल/ जिनके आइकान नीचे बने हें को क्लिक कर शेयर कर दें। इसका प्रकाशन जन हित में किया जा रहा है।
    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

    स्वास्थ /रोग विषयक प्रश्न यहाँ दर्ज कर सकते हें|

    स्वास्थ है हमारा अधिकार

    हमारा लक्ष्य सामान्य जन से लेकर प्रत्येक विशिष्ट जन को समग्र स्वस्थ्य का लाभ पहुँचाना है| पंचकर्म सहित आयुर्वेद चिकित्सा, स्वास्थय हेतु लाभकारी लेख, इच्छित को स्वास्थ्य प्रशिक्षण, और स्वास्थ्य विषयक जन जागरण करना है| आयुर्वेदिक चिकित्सा – यह आयुर्वेद विज्ञानं के रूप में विश्व की पुरातन चिकित्सा पद्ध्ति है, जो ‘समग्र शरीर’ (अर्थात शरीर, मन और आत्मा) को स्वस्थ्य करती है|

    चिकित्सक सहयोगी बने:
    - हमारे यहाँ देश भर से रोगी चिकित्सा परामर्श हेतु आते हैं,या परामर्श करते हें, सभी का उज्जैन आना अक्सर धन, समय आदि कारणों से संभव नहीं हो पाता, एसी स्थिति में आप हमारे सहयोगी बन सकते हें| यदि आप पंजीकृत आयुर्वेद स्नातक (न्यूनतम) हें! आप पंचकर्म केंद्र अथवा पंचकर्म और आयुर्वेदिक चिकित्सा प्रक्रियाओं जैसे अर्श- क्षार सूत्र, रक्त मोक्षण, अग्निकर्म, वमन, विरेचन, बस्ती, या शिरोधारा जैसे विशिष्ट स्नेहनादी माध्यम से चिकित्सा कार्य करते हें, तो आप संपर्क कर सकते हें| 9425379102/ mail- healthforalldrvyas@gmail.com केवल परामर्श चिकित्सा कार्य करने वाले चिकित्सक सम्पर्क न करें|