Rescue from incurable disease

Rescue from incurable disease
लाइलाज बीमारी से मुक्ति उपाय है - आयुर्वेद और पंचकर्म चिकित्सा |
  • Home
  • Contact Us
  • About Me
  • Q & A
  • Article's स्वास्थ्य लेख
  • Panchakarma(पंचकर्म)
  • Common Article
  • Specific article (विशेष लेख)
  • VIDEO
  • Baante or Muscle cramp- Muscular Stiffness with pain (बाएंटे या मसल क्रेम्प - मांस-पेशियों की एंठन और दर्द)

    बाएंटे या मसल क्रेम्प - मांस-पेशियों की अकड़न का कष्ट।
       बाएंटे या मसल क्रेम्प किसी मांस पेशी में अचानक होने वाला कष्ट जिसका अनुभव लगभग प्रत्येक वयस्क ने अपने जीवन में किया ही होगा। कभी कभी अचानक एसा लगता है, की मांसपेशी अकड़ गई हें अंगुलियाँ सीधी नही हो रही हें, और बहुत अधिक दर्द का अनुभव हो रहा है। अक्सर यह कुछ देर बाद स्वयं या मालिश करने पर ठीक भी हो जाता है। यही बाएंटे या मसल क्रेम्प है।
    यह कष्ट मांसपेशी से अधिक काम लेने, पानी की कमी या डिहाइड्रेशन, अवसाद, तनाव या  परिश्रम, वीटामिन बी की कमी आदि से हो जाता है। सोते समय पिंडली का कष्टदायक क्रैंप हो जिसका कारण पता न चल पा रहा हो तो वह नर्वस सिस्टम की खराबी संकेत होता है। विटामिन बी की कमी इसका एक प्रमुख कारण भी है| 
    क्या करें

    1-       जिस मांसपेशी में कष्ट हो उस स्थान पर कोई तैल बाम आदि चिकनाहट लगा कर हल्की मालिश कर रक्त संचार बड़ाएँ, और उसे गरम पानी में भिगोये कपड़े से सेक करें, या हीटींग पैड से हल्का और थोडी ही देर तक सेकें, अधिक सिकाई हानी कारक होगी। निर्गुंडी तैल या “चंदन बला लाक्षादी तैल” की मालिश(हल्की) और निर्गुंडी के पत्ते सहित उबले पानी की सिकाई अधिक लाभकारी होती है।
    2-       थोड़ा सेधा नमक मिले गर्म पानी से भरे टब में कुछ अधिक समय तक बेंठे या नहाएं।
    3-       मसल क्रैंप के स्थान या केन्द्र को अपने अंगूठे, हथेली या ठीली मुठ्ठी से दबाएं, 10 सेकेंड तक मसलें फिर से  दबायेँ एसा कई बार करें। इसकी कई बार पुनरावृत्ति से क्रैंप से होने वाला दर्द धीरे-धीरे कम होने लगेगा।
    4-       अक्सर डिहाइड्रेशन या पानी की कमी के कारण बाएटे या मसल क्रैंप आतें है। अगर आपको अकसर क्रैंप की शिकायत रहती है, तो ज्यादा से ज्यादा पानी पीने की आदत बनाएँ
    5-       पानी में मिलाकर इलेक्ट्रोलाइट जिससे मिनरल्स, पोटैशियम, सोडियम, कैल्सियम और मैग्निशियम आदि की पूर्ति हो लें यह भी मसल क्रैंप से राहत पहुंचाता है।
    6-       विटामिन बी, मैग्निशियम,पोटैशियम कैल्सियम आदि मिनरल्स लें। डाइट में होल-ग्रेन ब्रेड व अनाज, मूँगफली या नट्स और बीन, आदि से मैग्निशियम, केला, संतरा और खरबूजे सहित ज्यादातर फलों और सब्जियों से पोटैशियम, और डेरी उत्पाद दूध, दही, पनीर, चीज, आदि कैल्सियम मिल जाता है।
    7-       यदि एक्सरसाइज के दौरान मसल क्रैंप आ जाता है,तो इसका अर्थ है की पानी की कमी हो रही है इसके लिए एक्ससरसाइज़ दो घंटे पहले पानी पीएं। इसके बाद एक्सरसाइज के दौरान हर 15 मिनट 100 से 200 ग्राम तक पानी पीते रहें।  अगर सीना बहुत ज्यादा निकलता है तो एलेक्ट्रोल या कोई स्पोर्ट्स ड्रिंक ले जो पसीने के जरिए निकले सोडियम व दूसरे इलेक्ट्रोलाइट की भरपाई कर दे।
    8-       रात में सोते समय होने वाले पैर की पिंडली में होने वाले क्रैंप से बचने के लिए कभी भी पैर की अंगुली और अंगूठा पर सीधे चादर, कंबल या रज़ाई का दवाव न बनने दें, और न ही चादर आदि से कस कर लिपटें, जिससे पैर का अंगूठा अंगुलिया या पैर मुड़े नहीं। मुड़ने से बाएंटे या क्रैंप की संभावना बढ़ जाती है। 

    अन्य पोषक आहार जो लाभकारी है इनसे विटामिन बी आदि की कमी भी पूर्ति करते है|
    ये सब विटामिन बी कॉम्प्लेक्स के अच्छे स्रोत भी हें - टमाटर, चोकर युक्त गेहु का आटा, मक्की, चना,  बिना पालिश किया चावल, माल्टा, चावल की भूसी, हरी पत्तियो वनस्पति वाली सब्जी पालक,, पत्तगोभी, बन्दगोभी,फलदार सब्जी आलू, बीज वाली सब्जी जैसे ताजे सेम, ताजे मटर, दालताजे फल, संतरा, अंगूर, दूध, दही, खमीर, मेवा,, बादाम, अखरोट, नारियल, पिस्ता, मछली, अण्डे की सफेदी, जिगर,अण्डे की जर्दी, आदि आते हैं।
    =========================================================================
    समस्त चिकित्सकीय सलाह रोग निदान एवं चिकित्सा की जानकारी ज्ञान(शिक्षण) उद्देश्य से हे| प्राधिकृत चिकित्सक से संपर्क के बाद ही प्रयोग में लें| आपको कोई जानकारी पसंद आती है, ऑर आप उसे अपने मित्रो को शेयर करना/ बताना चाहते है, तो आप फेस-बुक/ ट्विटर/ई मेल/ जिनके आइकान नीचे बने हें को क्लिक कर शेयर कर दें। इसका प्रकाशन जन हित में किया जा रहा है।

    Book a Appointment.

    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

    स्वास्थ /रोग विषयक प्रश्न यहाँ दर्ज कर सकते हें|

    स्वास्थ है हमारा अधिकार

    हमारा लक्ष्य सामान्य जन से लेकर प्रत्येक विशिष्ट जन को समग्र स्वस्थ्य का लाभ पहुँचाना है| पंचकर्म सहित आयुर्वेद चिकित्सा, स्वास्थय हेतु लाभकारी लेख, इच्छित को स्वास्थ्य प्रशिक्षण, और स्वास्थ्य विषयक जन जागरण करना है| आयुर्वेदिक चिकित्सा – यह आयुर्वेद विज्ञानं के रूप में विश्व की पुरातन चिकित्सा पद्ध्ति है, जो ‘समग्र शरीर’ (अर्थात शरीर, मन और आत्मा) को स्वस्थ्य करती है|

    चिकित्सक सहयोगी बने:
    - हमारे यहाँ देश भर से रोगी चिकित्सा परामर्श हेतु आते हैं,या परामर्श करते हें, सभी का उज्जैन आना अक्सर धन, समय आदि कारणों से संभव नहीं हो पाता, एसी स्थिति में आप हमारे सहयोगी बन सकते हें| यदि आप पंजीकृत आयुर्वेद स्नातक (न्यूनतम) हें! आप पंचकर्म केंद्र अथवा पंचकर्म और आयुर्वेदिक चिकित्सा प्रक्रियाओं जैसे अर्श- क्षार सूत्र, रक्त मोक्षण, अग्निकर्म, वमन, विरेचन, बस्ती, या शिरोधारा जैसे विशिष्ट स्नेहनादी माध्यम से चिकित्सा कार्य करते हें, तो आप संपर्क कर सकते हें| 9425379102/ mail- healthforalldrvyas@gmail.com केवल परामर्श चिकित्सा कार्य करने वाले चिकित्सक सम्पर्क न करें|