Rescue from incurable disease

Rescue from incurable disease
लाइलाज बीमारी से मुक्ति उपाय है - आयुर्वेद और पंचकर्म चिकित्सा |
  • Home
  • Contact Us
  • About Me
  • Q & A
  • Article's स्वास्थ्य लेख
  • Panchakarma(पंचकर्म)
  • Common Article
  • Specific article (विशेष लेख)
  • VIDEO
  • कम्पूटर/मोबायल पर अधिक देर रहने या अन्य कारणों से होने वाली आँखों की थकन, सूजन कैसे दूर करें?

         कम्पूटर के साथ मोबायल पर भी  इंटरनेट उपलब्ध हो जाने से लगातार सभी को विशेषकर युवा पीडी को आँखों में थकान, आँखों का लाल होना, चश्मा जल्दी लगाना आजकल एक आम समस्या बनती जा रही है| हालंकि इसके कुछ और भी कारण जैसे नींद पूरी न होना, डिजिटल मशीनों में ज्यादा देर तक एकटक देखते रहना, कम रौशनी में एकटक पढ़ना, एलर्जी, गलत विज़न प्रिस्क्रिप्शन (चश्में का नंबर गलत होना) , तेज़ रौशनी, डाइबिटीज या फिर आँखों की कोई अन्य बीमारी हो सकती है|
         आँखों की थकान से कई तकलीफें भी हो सकतीं हें जिनमे आँखों का लाल होना, या फिर उनमें जलन होना, देखने में परेशानी, आँखों का सूखना या फिर बार बार आँख में पानी आना, धुंधला दिखना या फिर डबल दिखना, रौशनी में आने से ज्यादा सेंसिटिव होना, यहाँ तक की गर्दन, कंधे या फिर पीठ में दर्द भी हो सकता है| और अक्सर हम इनका कारण कही और तलाशते रहते हैं| 
       सामान्यत: प्रात: जब हम सोकर उठते हें तो हमको सब कुछ सामान्य सा लगता है| पर जब भी किसी चीज को ध्यान से देखने की कोशिश करतें हें, तो आँखों पर जोर लगाना पड़ता है| फिर जब ज्यादा देर तक पढ़ने या देर तक कंप्यूटर कार्य मोबायल पर चेटिंग आदि या फिर टीवी के सामने बैठने से आँखें थक जायें तो --- 
    1. हथेलियों से मालिश कीजिये, इससे आँखों को आराम मिलेगा|  
    2. बंद कमरे से निकलकर दूर- दूर तक नजर डालिए, इससे पुतलियाँ (प्युपल्स) का सिकुड़ना और फेलेंगी, इससे रक्त संचार ठीक होगा पोषण मिलेगा और राहत लगाने लगेगी|
    3. सुबह और ढलती श्याम की ठंडी धूप का सेवन कीजिये| इसके लिए शांत मुद्रा में बेठ कर ऑंखें बंद कर सूरज की दिशा में देखिये,(सूर्य को नहीं), सूर्य की उर्जा से न केवल शरीर में ज़रूरी पोषक तत्व विटामिन डी बनेगा साथ ही दृष्टि नाडी सक्रिय सशक्त होने लगेगी| प्रतिदिन एसा करने से  चश्मे से छुटकर भी मिल सकता है| 
    4. आँखों का व्यायाम करें (आई एक्सरसाइज)  करने के लिए पेन या पेंसिल को एक हाथ की दूरी पर पकड़े और धीरे धीरे उसे अपनी ओर ले आयें। उसे तब तक देखते रहे जब तक वो आपको साफ़ दिख रहा हो। फिर उसे देखते हुए वापस दूर ले जायें। ये प्रक्रिया करीब 10-15 बार करें। कंप्यूटर या मोबायल काम के दोरान भी हर 20 मिनट पर प्रक्रिया दोहराए|
    5.  कुछ सेकंड के लिए अपनी आँखों को क्लॉकवाइस और एंटी क्लॉकवाइस घुमाएं। थोडा रुक कर   अपनी पलकों को झपकाएं (खोलना-बंद करना)  4 -5 बार  हर दो तीन घंटे से करें| रोज इसकी आदत बनाने सेआँखों में रक्त संचालन ठीक रहेगा, आँखों की मांसपेशियां लचीली होती जाएँगी, थकन के साथ दृष्टि भी ठीक होगी|
    6. थोड़ी थोड़ी देर में ठन्डे पानी के छींटे मारते रहने की आदत बनाये, इससे अंकों में रक्त का दवाव कम होता है,  यदी आंखे सूज गई हें तो साफ़ कपड़े में कुछ बर्फ लपेटें और उसे अपनी बंद आंखों में रखें | यह ठंडा सेक सूजन को मिटा देगा|
    7.  गुनगुने  पानी में एक मुलायम कपडा भिगो कर निचोड़ कर, आँखों पर रखें यह विशेषकर सर्द मोसम में,  आखों की मांस पेशियों को आराम देगा, थकन दूर होगी, और आँखों का दर्द कम होगा, उसका सूखापन (खुश्की) मिटेगी| तकलीफ अधिक घोने पर दिन में कई बार दोहराए|
    8. यदि आप टी बेग की चाय पीते हें, चाय में दूध शक्कर डाले से पाहिले ती बेग निकलकर आँखों पर रखें, इसे ठंडा (फ्रिज में) कर प्रयोग किया जा सकता है|  
    9.  गुलाब जल प्राकृतिक शामक (रिलैक्सर) है। इससे आंखों के आसपास की त्वचा और डार्क सर्किल को मिटते हें और  इसके रोजाना इस्तेमाल से आँखों का नमी बनी रहते है। हलकी सी जलन तो होती है पर शीघ्र ही अच्छा लगता है|
    10.  फ्रिज में रखी ककड़ी का गोल टुकड़ा आँखों पर रखे थोड़ी देर में, थकान ही दूर हो जाती है। 
    11. ठन्डे दूध की मलाई सूजी और थकी आँखों, आँखों के दर्द, जलन और सूजन  के लिए बहुत लाभकारी हें| पलक पर लेप कर ठन्डे में भीगा कपड़ा आँखों पर रख कर लेट जाये , और चमत्कार देखें|
    12.  आँखों और उसके आस पास अधिक मेकअप की एलर्जी से होने वाली थकन सूजन, और खुश्की से बचने के लिए मेकअप बंद कर दें| काजल आंख की अश्रु ग्रंथि के छेद को बंद कर आँखों को खुश्क, सूजन और अन्य रोगों कारण बनता है|  
    13. घर से बाहर जाने पर चश्मे का प्रयोग आँखों के लिए रक्षक का कम करता है| बिना चश्में के विशेषकर बाइक पर, गरमी या तेज धुप कभी न निकलें| 
    14. कभी कभी  कृत्रिम आँसू बहाना एक लाभदायक सौदा है, इससे आँखों की सफाई के साथ ठंडक मिलेगी|
    15. नींद की कमी से आँखें जल्द ही थक जाती है, इसलिए भरपर नींद लें|
    16. एंटीऑक्सीडेंट और ओमेगा -3 फैटी एसिड युक्त आहार जैसे  गाजर, पालक, अलसी, खाए| आयुर्वेदिक "त्रिफला घृत" और त्रिफला चूर्ण, भी अच्छा एंटीओक्सिडेंट है| विटामिन ए और बीटा कैरोटीन की गोलियां डाक्टर से लिखवाएँ|
    17. त्रिफला चूर्ण को पानी में रात भर भिगो कर रखे प्रात: इस पानी से ऑंखें धोएं, सारी तकलीफ छुमंतर |
    18. दिन में खूब पानी पीना, आँखों को स्वस्थ्य रखने के लिए भी बहुत जरुरी है| 
    19. अक्सर डाक्टर की बड़ी फीस से बचने के लिए कैमिस्ट के पास पहुंच जाते हैं, और वे उन्हें शीघ्र लाभ देने वाली स्टीरॉयड आई ड्राप्स दे देते हें, यह भविष्य में खतरनाक होता है|  बार बार इसका प्रयोग आँखों की स्थिति को बदतर बना सकता है। 
    आँखों पर और भी देखें- 
    1. ड्राई आई सिंड्रोम की चिकित्सा है आयुर्वेद में आधुनिक चिकित्सा के लिए लाइलाज है आंख से आंसू न आना | 
    2. आंखों को रखें कैसे ग्लूकोमा से दूर? 
    3. आंख , आंख सही हे तो जहाँ हमारा ! 
    4. डायबिटीज़ (मधुमेह) से बचाए आंखों की रोशनी|
    ---------------------------------------------
    समस्त चिकित्सकीय सलाह रोग निदान एवं चिकित्सा की जानकारी ज्ञान(शिक्षण) उद्देश्य से हे| प्राधिकृत चिकित्सक से संपर्क के बाद ही प्रयोग में लें| आपको कोई जानकारी पसंद आती है, ऑर आप उसे अपने मित्रो को शेयर करना/ बताना चाहते है, तो आप फेस-बुक/ ट्विटर/ई मेल/ जिनके आइकान नीचे बने हें को क्लिक कर शेयर कर दें। इसका प्रकाशन जन हित में किया जा रहा है।

    Book a Appointment.

    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

    स्वास्थ /रोग विषयक प्रश्न यहाँ दर्ज कर सकते हें|

    स्वास्थ है हमारा अधिकार

    हमारा लक्ष्य सामान्य जन से लेकर प्रत्येक विशिष्ट जन को समग्र स्वस्थ्य का लाभ पहुँचाना है| पंचकर्म सहित आयुर्वेद चिकित्सा, स्वास्थय हेतु लाभकारी लेख, इच्छित को स्वास्थ्य प्रशिक्षण, और स्वास्थ्य विषयक जन जागरण करना है| आयुर्वेदिक चिकित्सा – यह आयुर्वेद विज्ञानं के रूप में विश्व की पुरातन चिकित्सा पद्ध्ति है, जो ‘समग्र शरीर’ (अर्थात शरीर, मन और आत्मा) को स्वस्थ्य करती है|

    चिकित्सक सहयोगी बने:
    - हमारे यहाँ देश भर से रोगी चिकित्सा परामर्श हेतु आते हैं,या परामर्श करते हें, सभी का उज्जैन आना अक्सर धन, समय आदि कारणों से संभव नहीं हो पाता, एसी स्थिति में आप हमारे सहयोगी बन सकते हें| यदि आप पंजीकृत आयुर्वेद स्नातक (न्यूनतम) हें! आप पंचकर्म केंद्र अथवा पंचकर्म और आयुर्वेदिक चिकित्सा प्रक्रियाओं जैसे अर्श- क्षार सूत्र, रक्त मोक्षण, अग्निकर्म, वमन, विरेचन, बस्ती, या शिरोधारा जैसे विशिष्ट स्नेहनादी माध्यम से चिकित्सा कार्य करते हें, तो आप संपर्क कर सकते हें| 9425379102/ mail- healthforalldrvyas@gmail.com केवल परामर्श चिकित्सा कार्य करने वाले चिकित्सक सम्पर्क न करें|