Rescue from incurable disease

Rescue from incurable disease
लाइलाज बीमारी से मुक्ति उपाय है - आयुर्वेद और पंचकर्म चिकित्सा |
  • Home
  • Contact Us
  • About Me
  • Q & A
  • Article's स्वास्थ्य लेख
  • Panchakarma(पंचकर्म)
  • Common Article
  • Specific article (विशेष लेख)
  • VIDEO
  • What is the reason for the stench of mouth.(मुहं में बदबू),

    What is the reason for the stench of mouth.(मुहं में बदबू),
    कभी कभी एसा लगता है की लोग आपसे कन्नी काट रहे हें| आप उनके पास जाना चाहते हें, वे आपसे दूर भागते हें|  इसका पता जब चलता है तो बढ़ा ही अपमानित महसूस होता है| एसा हो सकता है और आपको पता ही न हो की आपके मुहं से बदबू आती है|
    जी हाँ एसा हो सकता है, आपकी गंध आपके अन्दर बसी हुई होती है तो उसके अच्छे-बुरे होने का आपको पता तब तक नहीं चलता जब तक की कोई आपका हितेषी अपना या मुहं फट आपको बताता नहीं की आपके मुहं से बदबू आ रही है|
    जब आपको पता चलता है तो आप इससे मुक्ति पाने में लग जाते हें| परन्तु जब तक आपको मालूम नहीं की इस दुर्गन्ध का करण क्या है आप मुक्ति नहीं पा सकते|
    आपको जानना होगा की मुहं की बदबू का कारण क्या है?

    मुहं में बदबू तब पैदा होती है जब वहां कोई चीज सडती है, सड़न का कारण एक बैक्टीरिया होता है, जो वहां एकत्र खाने के अंशों को खाने बड़ने लगता है, इस बेक्टीरिया द्वारा छोड़ी जाने वाली गेस ही बदबू या दुर्गन्ध का कारण होती है| यह आपके मुहं से निकलती है अतः आप इसके अभ्यस्त हो जाते हें, और आपको यह अप्रिय नहीं लगती|
    यदि आप चाहते हें की दूसरा आपसे दूर रहने की कोशिश न करें तो आपको इस दुर्गन्ध को दूर करना होगा, इसके लिए जरुरी है की आप खाने के टुकड़े मुहं या दांतों में जमा न होने दें|
    इसका सबसे पहिला रास्ता है कुछ भी खाने के बाद तुरंत अच्छी तरह से कुल्ले. ब्रश आदि करके मुहं साफ करें|
    कभी कभी आपको लगता है की मुहं को रोज ठीक से साफ़ करने के बाद भी दुर्गन्ध नहीं जा रही, --
    जी हाँ एसा भी हो सकता है मुहं और दांतों से बेक्टीरिया पैट में पहुँच जाते हें, कभी कभी कुछ खाद्य पदार्थ विशेषकर नोन वेज, और बाज़ार के फ़ास्ट फ़ूड पैट में पहुंचकर आसनी से पच नहीं पाते और पाचन संस्थान में एकत्र रह कर सडन पैदा करते रहते हें, इनसे निकली गेस ऊपर मुहं नाक से, और नीचे गुदा मार्ग से निकलकर दुर्गन्ध विखेरती है और आपको सबसे दूर कर शर्मिंदगी का कारण बनती है|
    यह समस्या केवल बदबू तक खत्म नहीं होती दांतों को सड़ाकर केविटी/ पायरिया आदि पैदा करती है जिससे धीरे धीरे आपके दांत समय से पाहिले साथ छोड़ जाते हें| पैट के बेक्टीरिया लिवर को खराब कर खून की कमी, रग प्रतिकार क्षमता में कमी, हड्डी की कमजोरी, मधुमेह (Diabetes), अदि-आदि-आदि अनेक लाइलाज रोगों का कारण बन जाया करती है|
    क्या आप चाहेंगे की उपरोक्त बीमारियाँ आपको लग जाये?
    यदि नहीं तो सर्व प्रथम अपने मुहं में दुर्गन्ध का कारण ही उत्पन्न न होने दें| यदि बदबू आने लगी है तो तुरंत सम्भाल जाएँ इस बदबू को जीवन के अंत का अलार्म और चेतावनी मानते हुए इससे मुक्ति पा लें|
    भयभीत न हों, अभी यह आपके बस में है की आप इससे बच सकते हें|
    1.           आपको प्रति दिन प्रात और रात्रि सोते समय दांतों पर ब्रश और जीभ की सफाई करना चाहिए|
    2.           हर बार कुछ भी खाने के बाद मुहं दांत अच्छी तरह कुल्ले करके साफ करने की आदत बनाये|
    3.           पानी प्रति दिन अधिक पिए इससे हजमा ठीक रहेगा|  पानी सफाई का कम करता है, यह बेक्टीरिया को पनपने से रोकेगा|
    4.           तम्बाकू, धुम्रपान, गुटका,शराब, ड्रग्स आदि न लें बदबू का एक बड़ा कारण ये भी है|
    5.           तिल तैल /या नारियल तैल का ‘कवल धारण’ (तैल को 10 – 15 मिनिट तक मुहं में भर कर रखना और गुडगुडा कर निकाल देना) इसकी अच्छी चिकित्सा है|
    6.           सरसों का तैल और नमक से ब्रश करने से मुहं की दुर्गन्ध दूर होती है|
    7.           स्वर्जिका क्षार या मीठे सोडे (बेकिंग सोडा) को टूथ पेस्ट या मंजन में मिलकर ब्रश करने से मुहं की दुर्गन्ध दूर हो जाती है|प्रति सप्ताह एक बार एसा करने से कभी दुर्गन्ध नहीं आयेगी|
    8.           तुलसी के पत्ते,लोंग, सोंफ, धनिया दाल, पोदीना पत्ते, अदरक, आदि खाने के बाद चबाने से दुर्गन्ध नहीं रहती|
    9.             यदि बदहजमी रहती हो तो भोजन के पूर्व एक चम्मच हिंग्वाष्टक चूर्ण एक सप्ताह लेने से बदबू नष्ट होती है|

    10.        इन उपायों से भी बदबू नष्ट न हो तो किसी कुशल आयुर्वेदिक चिकित्सक से परामर्श कर रोग निदान/और चिकित्सा लें|
    =============================================
    What is the reason for the stench of mouth(आपके प्रश्नों के उत्तर में)
    समस्त चिकित्सकीय सलाह रोग निदान एवं चिकित्सा की जानकारी ज्ञान(शिक्षण) उद्देश्य से हे| प्राधिकृत चिकित्सक से संपर्क के बाद ही प्रयोग में लें| आपको कोई जानकारी पसंद आती है, ऑर आप उसे अपने मित्रो को शेयर करना/ बताना चाहते है, तो आप फेस-बुक/ ट्विटर/ई मेल/ जिनके आइकान नीचे बने हें को क्लिक कर शेयर कर दें। इसका प्रकाशन जन हित में किया जा रहा है।

    Book a Appointment.

    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

    स्वास्थ /रोग विषयक प्रश्न यहाँ दर्ज कर सकते हें|

    स्वास्थ है हमारा अधिकार

    हमारा लक्ष्य सामान्य जन से लेकर प्रत्येक विशिष्ट जन को समग्र स्वस्थ्य का लाभ पहुँचाना है| पंचकर्म सहित आयुर्वेद चिकित्सा, स्वास्थय हेतु लाभकारी लेख, इच्छित को स्वास्थ्य प्रशिक्षण, और स्वास्थ्य विषयक जन जागरण करना है| आयुर्वेदिक चिकित्सा – यह आयुर्वेद विज्ञानं के रूप में विश्व की पुरातन चिकित्सा पद्ध्ति है, जो ‘समग्र शरीर’ (अर्थात शरीर, मन और आत्मा) को स्वस्थ्य करती है|

    चिकित्सक सहयोगी बने:
    - हमारे यहाँ देश भर से रोगी चिकित्सा परामर्श हेतु आते हैं,या परामर्श करते हें, सभी का उज्जैन आना अक्सर धन, समय आदि कारणों से संभव नहीं हो पाता, एसी स्थिति में आप हमारे सहयोगी बन सकते हें| यदि आप पंजीकृत आयुर्वेद स्नातक (न्यूनतम) हें! आप पंचकर्म केंद्र अथवा पंचकर्म और आयुर्वेदिक चिकित्सा प्रक्रियाओं जैसे अर्श- क्षार सूत्र, रक्त मोक्षण, अग्निकर्म, वमन, विरेचन, बस्ती, या शिरोधारा जैसे विशिष्ट स्नेहनादी माध्यम से चिकित्सा कार्य करते हें, तो आप संपर्क कर सकते हें| 9425379102/ mail- healthforalldrvyas@gmail.com केवल परामर्श चिकित्सा कार्य करने वाले चिकित्सक सम्पर्क न करें|