Rescue from incurable disease

Rescue from incurable disease
लाइलाज बीमारी से मुक्ति उपाय है - आयुर्वेद और पंचकर्म चिकित्सा |
  • Home
  • Contact Us
  • About Me
  • Q & A
  • Article's स्वास्थ्य लेख
  • Panchakarma(पंचकर्म)
  • Common Article
  • Specific article (विशेष लेख)
  • VIDEO
  • पुरुषत्व बढाने/ और शक्ति(स्त्री-पुरुष दोनों को) देने बाले खाद्य और आयुर्वेदिक औषधियां |

     पुरुषत्व बढाने/ और शक्ति(स्त्री-पुरुष दोनों को) देने बाले खाद्य और आयुर्वेदिक औषधियां |
    सर्दियों के मोसम में जब सबकी अग्नि तेज हो जाती हे, और सबकुछ हजम करने की शक्ति होती हे और वर्ष भर के लिए पोरुष-शक्ति/या स्टेमिना  बनाये  रखने के लिए यह एक अच्छा समय माना जाता हे, तब सभी का ध्यान परंपरागत बनाये जाने वाले लडुओपर जाता हे | आधुनिक लोग जो यह सब पसंद नहीं करते और जो अपने खान-पान पर सही तरह से ध्यान नहीं दे पाने से कई बीमारियों का शिकार हो जाते हैं। इससे  सेक्स क्षमता पर भी इसका नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। शरीर को शक्तिशाली बनाने और ऊर्जा प्राप्त करने के लिए उत्तम एवं पौष्टिक आहार का सेवन करना जरुरी हो जाता हे ।
     पोरुषीय शक्ति [सेक्सुयल पावर] - केसे मिले ?
    निम्न कुछ खाद्य/आयुर्वेदिक द्रव्य के  सेवन से  इसको बरक़रार रखा जा सकता हे |
    • क्षमता बढ़ाने में शहद तथा भीगे हुए बादाम या किशमिश को दूध में मिलाकर प्रतिदिन पीने से बहुत लाभ मिलता है।
    • बादाम, किशमिश और मनुक्का को भिगोकर नाश्ते में लेने से भी लाभ होता है।
    • हरी सब्जी और छिलकों वाली दाल का सेवन चपाती के साथ करें। चपाती मक्खन या मलाई के साथ लें।
    • भोजन में सलाद का भरपूर उपयोग और प्याज, लहसुन तथा अदरक का संतुलित सेवन करें।
    • शक्ति  को बढ़ाने या बरकरार रखने के लिए प्राकृतिक भोजन का सेवन करना चाहिए। जैसे- अन्न, ताजी हरी सब्जियां, सलाद, बिना पॉलिश किया चावल, ताजे फल, सूखे मेवे, चोकरयुक्त आटे की रोटिया, अंकुरित खाद्यान्न, दूध, घी, अंडा तथा समुद्र से प्राप्त होने वाला भोजन इत्यादि।
    • शाकाहार का सेवन करने से सेक्स क्षमता बढ़ाने में मदद मिलती है। इसमें आप दाल, अनाज, दूध तथा दूध से बने पदार्थ ले सकते हैं।
    • तमाम शोधों में भी साबित हो चुका है कि मांसाहारी व्यक्ति की तुलना में शाकाहारी व्यक्ति और अधिक प्रभावशाली ढ़ंग से सेक्स करने में सक्षम होता है।
    • आपको  क्षमता बढ़ाने के लिए मांसाहारी के बजाय शाकाहारी भोजन लेना चाहिए और उसमें भी नियमित रूप से हरी पत्तेदार सब्जियों का सेवन करना चाहिए।
    •  क्षमता में वृद्धि करने के लिए प्रोटीन और विटामिन बहुत मददगार साबित होते हैं। इसीलिए आपको अपने भोजन में प्रोटीनयुक्त खाद्य पदार्थों को लेना चाहिए जिससे आपके शरीर में फुर्ती भी आएगी।आप प्रचूर मात्रा में प्रोटीन ले|
    • फास्ट फूड, कोल्ड ड्रिंक्स, चॉकलेट, पिज्जा, बर्गर एंव चाऊमीन आदि का सेवन नियमित रूप से करने से सेक्स ऊर्जा में कमी आने लगती है। ऐसे में इन चीजों का सेवन करने से बचना चाहिए।
    • क्षमता बढ़ाने के लिए पौष्टिक और संतुलित आहार लेना आवश्यक होता है। लिहाजा आपको तैलीय, मसालेदार और वसायुक्त भोजन को लेने से बचना चाहिए। इससे आप स्वस्थ होगे  ही साथ ही आप अतिरिक्त कॉलेस्ट्रॉल को बढ़ने से भी रोक पाएंगे, जो कि कई बीमारियों की जड़ है।
    • डायटिंग करने, उपवास रखने से आप जरूरी कैलोरी नहीं ले पाते जिससे आपमें कमजोरी आ जाती है। जिससे "काम- Sex " के दौरान आपमें ऊर्जा की कमी के हो जाती है और आप बीमार भी पड़ सकते हैं। ऐसे में आप दिनभर में 2000 कैलोरीयुक्त भोजन अवश्य लें। इससे आप स्वस्थ भी रहेंगे।
    आयुर्वेदिक द्रव्य भी इसके लिए हमेशा 
    (गर्मी या  हानि नहीं करते, यह एक भ्रम हे )  
    विशेषकर सर्दियों के दोरान लिए जाना उचित होगा |
    अष्ट वर्ग का चूर्ण (ऋद्धी,ब्रद्धि,मेदा,महामेदा,जीवक,ॠषभक,काकोली,क्षीर काकोली, ) 
    या इसके  वर्तमान  प्रतिनिधि द्रव्य-
     खरेंटी, पंजा सालब, शकाकुल छोटी, शकाकुल बड़ी, लम्बा सालब, काली मुसली, सफेद मुसली, और सफ़ेद बहमन
    (ये सभी कच्ची आयुर्वेदिक जड़ी बूटी विक्रेताओ विक्रेताओ[अत्तार /पंसारी आदि नामो के ] के यंहा आसानी से मिल जाते हें| सड़क किनारे बेठे हुए जडी-बुटी बेचने वाले यही सब दे कर इसका इलाज करते हे और मनमाना धन ठगते हें ।
    इनका कपड छन चूर्ण+ बराबर मिश्री मिला कर प्रतिदिन दो बार, 5 से 10  ग्राम तक  गाय के घी और मलाई वाले दूध के साथ लेने से पुरुषो का पुरुषत्व और महिलायों की प्रजनन शक्ति बढती हे | 
    इस चूर्ण को  घर पर सर्दियों में बनाये जाने वाले लड़ुओं में, मेवा/गोंद आदि साथ मिला कर खाया  जाये और गो दुग्ध पिए तो अधिक लाभकारी के साथ लेना भी सहज हो जाता हे | 
    बाज़ार में भी मुसली पाक ,सलाम पाक,अदि भी मिलते हें पर वे व्यबसायिक विचार  से बनाये गए होने से अधिक अच्छे नहीं कहे जा सकते| अत ये सामान्य प्रयोग अधिक कारगर होते हें | इनके उपयोग से वजन बड़ने से रोकने के लिए पर्याप्त व्यायाम /योग/परिश्रम भी करना चाहिए | 
    समस्त चिकित्सकीय सलाह रोग निदान ,एवं चिकित्सा की जानकारी ज्ञान(शिक्षण) उद्देश्य से हे| प्राधिकृत चिकित्सक से संपर्क के बाद ही प्रयोग में लें |.
    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

    स्वास्थ /रोग विषयक प्रश्न यहाँ दर्ज कर सकते हें|

    स्वास्थ है हमारा अधिकार

    हमारा लक्ष्य सामान्य जन से लेकर प्रत्येक विशिष्ट जन को समग्र स्वस्थ्य का लाभ पहुँचाना है| पंचकर्म सहित आयुर्वेद चिकित्सा, स्वास्थय हेतु लाभकारी लेख, इच्छित को स्वास्थ्य प्रशिक्षण, और स्वास्थ्य विषयक जन जागरण करना है| आयुर्वेदिक चिकित्सा – यह आयुर्वेद विज्ञानं के रूप में विश्व की पुरातन चिकित्सा पद्ध्ति है, जो ‘समग्र शरीर’ (अर्थात शरीर, मन और आत्मा) को स्वस्थ्य करती है|

    चिकित्सक सहयोगी बने:
    - हमारे यहाँ देश भर से रोगी चिकित्सा परामर्श हेतु आते हैं,या परामर्श करते हें, सभी का उज्जैन आना अक्सर धन, समय आदि कारणों से संभव नहीं हो पाता, एसी स्थिति में आप हमारे सहयोगी बन सकते हें| यदि आप पंजीकृत आयुर्वेद स्नातक (न्यूनतम) हें! आप पंचकर्म केंद्र अथवा पंचकर्म और आयुर्वेदिक चिकित्सा प्रक्रियाओं जैसे अर्श- क्षार सूत्र, रक्त मोक्षण, अग्निकर्म, वमन, विरेचन, बस्ती, या शिरोधारा जैसे विशिष्ट स्नेहनादी माध्यम से चिकित्सा कार्य करते हें, तो आप संपर्क कर सकते हें| 9425379102/ mail- healthforalldrvyas@gmail.com केवल परामर्श चिकित्सा कार्य करने वाले चिकित्सक सम्पर्क न करें|