Rescue from incurable disease

Rescue from incurable disease
लाइलाज बीमारी से मुक्ति उपाय है - आयुर्वेद और पंचकर्म चिकित्सा |
  • Home
  • Contact Us
  • About Me
  • Q & A
  • Article's स्वास्थ्य लेख
  • Panchakarma(पंचकर्म)
  • Common Article
  • Specific article (विशेष लेख)
  • VIDEO
  • मम्‍स या कण्ठमाला


        कण्ठमाला रोग का संक्रमण एक वायरस से होता है,     जो प्रत्येक कान के सामने कर्णमूलीय ग्रंथियों की सूजन का कारण बनता है | यह सुजन गाठो के रूप में बढती हें|


     पैरामायक्सोवायरस जो कि एक व्यक्ति से दुसरे व्यक्ति में  खाँसी,छीके, और लार,साथ ही साथ दूषित वस्तुओं और सतहों के माध्यम के साथ संपर्क से,(उपयोग किए हुए टिशू , पीने का गिलास से, गंदे हाथ,बहती हुई नाक को छुने से, फैलाता है )| एक बार कण्ठमाला रोग वायरस शरीर में प्रवेश करता है, वह खून में गुजरता है और कई अलग अलग ग्रंथियों और मस्तिष्क में फ़ैल सकता है| कण्ठमाला रोग वायरस भी मस्तिष्क में चले जाती है , जहां यह मैनिंजाइटिस (सूजन और मस्तिष्क की झिल्लियों के संक्रमण को करती है ) और इन्सेफेलाइटिस (मस्तिष्क संक्रमण) का कारण हो भी  सकता है| कभी कभी बहरापन , पक्षाघात (कमजोरी, विशेष रूप से चेहरे की मांसपेशियों में) कर सकता हे |

    कण्ठमाला रोग के साथ लोगों को पहले 48 घंटे जब शुरू होता है एक अवधि कि और 6-9 दिन समाप्त होने के दौरान कण्ठमाला रोग के लक्षणों की शुरुआत के बाद ऐसा होता हैं | इसका  प्रभावी टीके से पहले 1960 में उपलब्ध हो गया था |

    15% से 20% रोगियों में, कण्ठमाला रोग प्रारम्भ में कोई भी लक्षण पैदा नहीं करता है| आमतौर पर 14-18 दिन में लक्षण होते हैं 
     कण्ठमाला रोग के लक्षणों में संक्रमण, बुखार, सिर दर्द, गले में ख़राश, मांसपेशियों में दर्द, भूख ना लगना, बीमार जेसी  गिरी गिरी हालत महसूस कर सकता है| कण्ठमाला रोग वायरस दर्द करता हे कान के नीचे इअरलोब के सामने सूजन हो सकता है जिसको पेरोटिसिस कहते हें| इसके  दर्द की वजह से, चबाने, निगलने में बहुत असुविधाजनक हो सकता है ,और रोगी का खाने का मन नहीं होता|
    कभी कभी, पुरुष, किशोरों और वयस्कों में कण्ठमाला रोग के साथ सूजन और एक या दोनों टेस्टीकल्स  में दर्द हो सकता हैं | महिलाओं में, अंडाशय में संक्रमण से पेट दर्द पैदा कर सकता है|
    कुछ सेक्स के रोगियों / बच्चों / वयस्कों में साधारण या गंभीर जटिलताओं के सहित हो भी सकता है|

    कण्ठमाला का रोग के लक्षण आम तौर पर 10 दिनों तक रहते है| एक बार के संक्रमण के बाद आमतौर जीवन भर के लिए कण्ठमाला रोग के वायरस से प्रतिरक्षा हो जाती हैं| कण्ठमाला रोग को होने से  रोकने के लिए कण्ठमाला रोग के टीके दिए जा सकते हें|

    क्योंकि कण्ठमाला का रोग के साथ रोगियों में 48 घंटे संक्रामक हैं,इस समय रोगी को अलग रखना चाहिए|आमतौर पर बच्चे जिनको कण्ठमाला का रोग होता है उनको स्कूल या शिशु देखभाल से नौ दिनों के लिए बाहर रखा जाता है |
    सामान्य परिस्थितियों में चूँकि यह रोग स्वयं ही ठीक हो जाता हे अत दवाओ की जरुरत नहीं होती |इसी का लाभ झाड़,फूक, मंत्र टोना वाले लोग उठाते हें | अत उनसे सावधान रहे | पर दर्द / ज्वर अदि से बचने और शारीरिक क्षमता बांये रखने हेतु निम्न आयुर्वेदिक औषधि कारगर हें|
    कांचनार गूगल २-२  /लघुबसन्त मालती रस १/४ ग्राम/ संजीवनी वटी२-२ गोली, दो या तीन बार  दें| अन्य जटिलता लगती हो तो गण्डमाला कंडंन रस चिकित्सक से परामर्श कर दी जा सकती हे |


    समस्त चिकित्सकीय सलाह रोग निदान ,एवं चिकित्सा की जानकारी ज्ञान(शिक्षण) उद्देश्य से हे| प्राधिकृत चिकित्सक से संपर्क के बाद ही प्रयोग में लें |.

    Book a Appointment.

    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

    स्वास्थ /रोग विषयक प्रश्न यहाँ दर्ज कर सकते हें|

    स्वास्थ है हमारा अधिकार

    हमारा लक्ष्य सामान्य जन से लेकर प्रत्येक विशिष्ट जन को समग्र स्वस्थ्य का लाभ पहुँचाना है| पंचकर्म सहित आयुर्वेद चिकित्सा, स्वास्थय हेतु लाभकारी लेख, इच्छित को स्वास्थ्य प्रशिक्षण, और स्वास्थ्य विषयक जन जागरण करना है| आयुर्वेदिक चिकित्सा – यह आयुर्वेद विज्ञानं के रूप में विश्व की पुरातन चिकित्सा पद्ध्ति है, जो ‘समग्र शरीर’ (अर्थात शरीर, मन और आत्मा) को स्वस्थ्य करती है|

    चिकित्सक सहयोगी बने:
    - हमारे यहाँ देश भर से रोगी चिकित्सा परामर्श हेतु आते हैं,या परामर्श करते हें, सभी का उज्जैन आना अक्सर धन, समय आदि कारणों से संभव नहीं हो पाता, एसी स्थिति में आप हमारे सहयोगी बन सकते हें| यदि आप पंजीकृत आयुर्वेद स्नातक (न्यूनतम) हें! आप पंचकर्म केंद्र अथवा पंचकर्म और आयुर्वेदिक चिकित्सा प्रक्रियाओं जैसे अर्श- क्षार सूत्र, रक्त मोक्षण, अग्निकर्म, वमन, विरेचन, बस्ती, या शिरोधारा जैसे विशिष्ट स्नेहनादी माध्यम से चिकित्सा कार्य करते हें, तो आप संपर्क कर सकते हें| 9425379102/ mail- healthforalldrvyas@gmail.com केवल परामर्श चिकित्सा कार्य करने वाले चिकित्सक सम्पर्क न करें|