Rescue from incurable disease

Rescue from incurable disease
लाइलाज बीमारी से मुक्ति उपाय है - आयुर्वेद और पंचकर्म चिकित्सा |

हाइपरथायरायडिज्‍़म


हाइपरथाइराडिज़्म   का अर्थ है, थाइरोइड हार्मोन का बढ जाना।

 थाइरोइड  की अधिकता  को  हाइपोथायरायडिज्म-थायरॉयड हॉर्मोन का अधिक उत्पादन|

 थाइरोइड हार्मोन, जो कि गर्दन के निचले सामने वाले भाग में पाई जाने वाली थायरॉयड ग्रंथि द्वारा बनाया जाता है, शरीर की ऊर्जा को विनियमित करता है। जब थाइरोइड हार्मोन का स्तर असामान्य रूप से अधिक हो जाता है तो शरीर ऊर्जा को तेजी से जलाता है |


इसके तीन सबसे सामान्य कारण हैं:

ग्रेव्स रोग
 एक प्रतिरक्षा तंत्र विकार है जिसके कारण थायरॉयड से थायरॉयड हार्मोन का स्राव बहुत अधिक बढ़ जाता है। ग्रेव्स रोग विशिष्ट रूप से 20 और 40 की उम्र के बीच की युवतियों को प्रभावित करता है हालांकि रोगियों में 12% पुरुष हैं। क्योंकि ग्रेव्स रोग आनुवंशिक कारकों से संबंधित वंशानुगत विकार है, इसलिए थाइरोइड रोग एक ही परिवार में कई लोगों को प्रभावित कर सकता है।
विनाइन (नॉनकैन्सरस) थाइरोइड ट्यूमर, 
जो कि अनियंत्रित ढंग से थाइरोइड हार्मोन की बढ़ी हुई मात्रा का निस्सारण करता है।
विषाक्त मल्टीनोडूलर गण्डमाला (गोईटर),
 ऐसी अवस्था जिसके कारण थायरॉयड ग्रंथि, कई विनाइन (नॉनकैन्सरस) थाइरोइड ट्यूमर की वजह से बड़ी हो जाती है और थायरॉयड हार्मोन के स्राव की मात्रा को बढ़ा देती है।
वायरल संक्रमण (इन्फेक्शन) के बाद, थाइरोइड सूजन के कुछ प्रकार कुछ समय का हाईपरथाईरोइडिज्म का कारण हो सकते हैं।

बाहरी लक्षण

किसी भी प्रकार की वृद्धि या असामान्य गांठों , अन्य संकेतों जैसे, बढ़ी हुई हृदय दर, हाथ में स्पंदन, एक पलटे हुए हथौड़े के साथ दोहन करने के लिए तीव्र प्रतिक्रिया, अत्यधिक पसीना आना, मांसपेशियों में कमजोरी और उभरी हुई आँखें, आदि|
निदान जांच
 थाइरोइड हार्मोन के स्तर का पता लगाने के लिए रक्त जांच । अन्य निदान जांचों में कुछ एंटीबोडिस स्तर की जांच के लिए रक्त परीक्षण, थाइरोइड का अल्ट्रासाउंड और थाइरोइड स्केन शामिल है।
चिकित्सा 

वे लोग जिन्हें, हाईपरथाईरोइडिज्म कुछ विशिष्ट प्रकार की थाइरोइड सूजन या वायरल थाइरोइड संक्रमण के कारण होता है, प्रायःकुछ समय बाद सामान्य हो जाते हें|

ग्रेव्स रोग से ग्रस्त लोगों को दीर्घ कालीन चिकित्सा की आवश्यकता होती है, हालांकि यह भी  कभी कभी अपने आप सुधर जाती है।

थाइरोइड की दवाओं के अत्यधिक सेवन से होने वाले हाईपरथाईरोइडिज्म से बचने के लिए अपने डॉक्टर के निर्देशों का पालन करें और थाइरोइड स्तरों के लिए नियमित रक्त जांच करवाते रहें। प्राकृतिक रूप से होने वाले  हाइपरथाइराडिज़्म    से बचाव संभव नहीं है।

ग्रेव्स रोग से प्रभावित 50% तक लोग, जिनका 12 से 24 महीनों तक एंटी-थाइरोइड दवाओं से उपचार किया जाता है, उनको लंबे समय तक के लिए इस बिमारी से छुटकारा मिल जाता है। रेडियोधर्मी आयोडीन भी ग्रेव्स रोग के लिए एक प्रभावी चिकित्सा है और अतिउत्पादक थाइरोइड ग्रंथियों वाले रोगियों में लगभग हमेशा उपयोग की जाती है। कई लोगों में इस चिकित्सा के बाद कम सक्रिय थाइरोइड (हाइपोथाइरोईडिज्म) विकसित हो जाता है। हालांकि, इस स्थिति का आसानी से थाइरोइड प्रतिस्थापन दवा की एक गोली के दैनिक सेवन से इलाज किया जाता है।
आयुर्वेदिक औषधि असगंध/ दशमूल क्वाथ/ पुनर्नवादी मंडूर/ आदि अच्छा लाभ देती हें | 


समस्त चिकित्सकीय सलाह रोग निदान ,एवं चिकित्सा की जानकारी ज्ञान(शिक्षण) उद्देश्य से हे| प्राधिकृत चिकित्सक से संपर्क के बाद ही प्रयोग में लें |.
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

स्वास्थ /रोग विषयक प्रश्न यहाँ दर्ज कर सकते हें|

स्वास्थ है हमारा अधिकार

हमारा लक्ष्य सामान्य जन से लेकर प्रत्येक विशिष्ट जन को समग्र स्वस्थ्य का लाभ पहुँचाना है| पंचकर्म सहित आयुर्वेद चिकित्सा, स्वास्थय हेतु लाभकारी लेख, इच्छित को स्वास्थ्य प्रशिक्षण, और स्वास्थ्य विषयक जन जागरण करना है| आयुर्वेदिक चिकित्सा – यह आयुर्वेद विज्ञानं के रूप में विश्व की पुरातन चिकित्सा पद्ध्ति है, जो ‘समग्र शरीर’ (अर्थात शरीर, मन और आत्मा) को स्वस्थ्य करती है|

चिकित्सक सहयोगी बने:
- हमारे यहाँ देश भर से रोगी चिकित्सा परामर्श हेतु आते हैं,या परामर्श करते हें, सभी का उज्जैन आना अक्सर धन, समय आदि कारणों से संभव नहीं हो पाता, एसी स्थिति में आप हमारे सहयोगी बन सकते हें| यदि आप पंजीकृत आयुर्वेद स्नातक (न्यूनतम) हें! आप पंचकर्म केंद्र अथवा पंचकर्म और आयुर्वेदिक चिकित्सा प्रक्रियाओं जैसे अर्श- क्षार सूत्र, रक्त मोक्षण, अग्निकर्म, वमन, विरेचन, बस्ती, या शिरोधारा जैसे विशिष्ट स्नेहनादी माध्यम से चिकित्सा कार्य करते हें, तो आप संपर्क कर सकते हें| 9425379102/ mail- healthforalldrvyas@gmail.com केवल परामर्श चिकित्सा कार्य करने वाले चिकित्सक सम्पर्क न करें|