Rescue from incurable disease

Rescue from incurable disease
लाइलाज बीमारी से मुक्ति उपाय है - आयुर्वेद और पंचकर्म चिकित्सा |
  • Home
  • Contact Us
  • About Me
  • Q & A
  • Article's स्वास्थ्य लेख
  • Panchakarma(पंचकर्म)
  • Common Article
  • Specific article (विशेष लेख)
  • VIDEO
  • जानिए कितनी फायदेमंद है पिंड खजूर

    खजूर --- Phoenix  Dactylifera
    गुलाबी ठण्ड की दस्तक के साथ ही शीत ऋतू में काफी तरफ के खाद्य पदार्थ की आवक शुरू हो जाती है इनमे सबसे प्रमुख रूप से सभी जगह पाए जाने वाली चीज़ है पिंड खजूर...
    इसकी काफी तरह की किस्मे आती है जो अपनी कीमत के अनुरूप अपनी गुणवत्ता के लिए जानी जाती है...
    आइये जानते है की केवल १०० ग्राम पिंड खजूर में कितनी खुबिया है जो आपको सेहतमंद बनती है..

    1- CALORIES - 248.0 mg    2- INVETED SUGAR - 63.9 gm        3- PROTEIN - 2.0 gm
    4- SODIUM - 1 mg              5- POTASSIUM - 648 mg                6- CALCIUM - 68 mg
    7- MAGNESIUM - 59 mg     8- PHOSPHORUS - 64 mg               9- IRON - 3 mg
    10- COPPER - 0.21 mg     11- VITAMIN A - 50 UNITS              12- VITAMIN B1 - 0.1 mg
    13- NIACIN - 2.2 mg          14- FIBER - 2.3 mg                         15- CHOLESTEROL - 0
    :
    पिंड खजूर रोचक और भूख मिटने वाला तो होता ही हे ,साथ ही आयुर्वेदिक द्रष्ठी कोण से यह  पोष्टिक मोटा करने वाला,कामोद्दीपक, कफ़ निकलने वाला ,और विष हर हे| यूनानी  मत से यह गुर्दा,और मूत्र विसर्जन संस्थान को मजबूत  करता हे|छाती और फेपड़े की तकलीफें दूर करता हे|  इसका  सुखा  फल  खारक,शांति दायक, पेट साफ करने वाला, खांसी श्वास में लाभकारी,होता हे अधिक सेवन से मसूड़े फूल सकते हें | इसलिए अधिक नहीं खाना चाहिए|
    -आयुष्मान भव |
    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

    स्वास्थ /रोग विषयक प्रश्न यहाँ दर्ज कर सकते हें|

    स्वास्थ है हमारा अधिकार

    हमारा लक्ष्य सामान्य जन से लेकर प्रत्येक विशिष्ट जन को समग्र स्वस्थ्य का लाभ पहुँचाना है| पंचकर्म सहित आयुर्वेद चिकित्सा, स्वास्थय हेतु लाभकारी लेख, इच्छित को स्वास्थ्य प्रशिक्षण, और स्वास्थ्य विषयक जन जागरण करना है| आयुर्वेदिक चिकित्सा – यह आयुर्वेद विज्ञानं के रूप में विश्व की पुरातन चिकित्सा पद्ध्ति है, जो ‘समग्र शरीर’ (अर्थात शरीर, मन और आत्मा) को स्वस्थ्य करती है|

    चिकित्सक सहयोगी बने:
    - हमारे यहाँ देश भर से रोगी चिकित्सा परामर्श हेतु आते हैं,या परामर्श करते हें, सभी का उज्जैन आना अक्सर धन, समय आदि कारणों से संभव नहीं हो पाता, एसी स्थिति में आप हमारे सहयोगी बन सकते हें| यदि आप पंजीकृत आयुर्वेद स्नातक (न्यूनतम) हें! आप पंचकर्म केंद्र अथवा पंचकर्म और आयुर्वेदिक चिकित्सा प्रक्रियाओं जैसे अर्श- क्षार सूत्र, रक्त मोक्षण, अग्निकर्म, वमन, विरेचन, बस्ती, या शिरोधारा जैसे विशिष्ट स्नेहनादी माध्यम से चिकित्सा कार्य करते हें, तो आप संपर्क कर सकते हें| 9425379102/ mail- healthforalldrvyas@gmail.com केवल परामर्श चिकित्सा कार्य करने वाले चिकित्सक सम्पर्क न करें|