Rescue from incurable disease

Rescue from incurable disease
लाइलाज बीमारी से मुक्ति उपाय है - आयुर्वेद और पंचकर्म चिकित्सा |
  • Home
  • Contact Us
  • About Me
  • Q & A
  • Article's स्वास्थ्य लेख
  • Panchakarma(पंचकर्म)
  • Common Article
  • Specific article (विशेष लेख)
  • VIDEO
  • मस्सा(वार्टस)


    मस्सा(वार्टस)
           मस्से नुकसान रहित त्वचा बढ़ोत्तरी के रूप में होते हैं जो ह्यूमन पैपिलोमावाइरस (एचपीवी) नामक विषाणु (वायरस) के कारण होते हैं। यह वायरस शरीर में ऐसी जगह से प्रवेश करता है जहां की त्वचा कटी-फटी हो और बाहर को छोटे गुमड़े के रूप में बढ़कर यह त्वचा की बाहरी परत को प्रभावित करता है। अधिकांश मामलों में मस्से महीनों या वर्षों के पीरियड के बाद अपने आप ही समाप्त हो जाते हैं। ये शरीर में कहीं पर भी सतह पर उत्पन्न हो सकते हैं लेकिन आमतौर से हाथों, पैरों और चेहरे पर पाये जाते हैं। हालांकि मस्से नुकसानरहित होते हैं लेकिन ये काफी परेशान करने वाले होते हैं और अपनी खास लोकेशन के कारण शर्मिन्दगी की वजह भी बन जाते हैं।
    लक्षण- मस्से विभिन्न आकार-प्रकार और रंगों के हो सकते हैं। यह खुरदुरी सतह वाला गुमड़ा सपाट और मुलायम भी हो सकता है। इसका रंग त्वचा के रंग का, भूरा, गुलाबी या सफेद भी हो सकता है।
    आमतौर से मस्से में दर्द नहीं होता लेकिन यदि ये ऐसे हिस्से में हैं जहां अक्सर दबाव पड़ता हो या वह हिस्सा मूवमेंट में रहता हो जैसे कि अंगुलियों के सिरे या पैरों के तलुए तो यह दर्दयुक्त भी हो सकता है।
    इनके कटने-छिलने या निकालने की स्थिति में इनमें खारिश और खून बहने की स्थिति हो सकती है।
    मस्से में रक्त वाहिनियों द्वारा खून और पोषक तत्व सप्लाई किये जाते हैं जो काले बिंदुओं सी दिखती हैं।
    कॉमन वार्टस:-उभरे हुए वार्टस जिनकी बनावट खुरदुरी हो,अक्सर हाथों पर पाये जाते हैं लेकिन ये शरीर में कहीं भी हो सकते हैं।
    चपटे (फ्लैट) वार्टस: --ये अन्य वार्टस की अपेक्षा छोटे और मुलायम होते हैं। इनके सिरे फ्लैट होते हैं और ये आमतौर से चेहरे, बांहों और टांगों पर पाये जाते हैं।
    फिलीफार्म वार्टस:-ये बढ़कर धागों जैसे दिखते हैं और ऐसे अधिकतर चेहरे पर पाये जाते हैं।
    प्लांटर वार्टस:-आमतौर से पैरों के तलुवों में पाये जाते हैं और जब ये गुच्छों में बनते हैं तो मोजॉइक वार्टस के रूप में जाने जाते हैं। ये कड़े और मोटे पैच होते है जिनमें छोटे-छोटे काले बिंदु होते हैं जो कि वास्तव में रक्त वाहिनियां होती हैं। मूवमेंट जैसे कि चलने-फिरने और दौड़ने के दौरान इन वाट्र्स में दर्द होता है।
    पेरिंयगुअल वार्टस:-ये अंगुलियों और अंगूठों के नाखूनों के नीचे और इर्द-गिर्द बनते हैं। इनकी सतह खुरदुरी होती है और ये नाखूनों की बढोत्तरी को प्रभावित कर सकते हैं।
    जेनिटक (प्रजनन संबंधी) वार्टस:-ये लैंगिक प्रसारित बीमारियों (सैक्सुअली ट्रांसमिंटेड डिजीजेज-एसटीडी) का सबसे प्रचलित रूप हैं। ये शरीर के प्रजनन संबंधी हिस्सों जैसे कि योनि, लिंग, गुदा और अंडकोष (स्क्रोटम) पर बनते हैं। ये उभरे हुए या चपटे, अकेले या गुच्छों में बन सकते हैं और लैंगिक संभोग (सैक्सुअल इंटरकोर्स) के दौरान त्वचा के संपर्क से फैलते हैं।
    कारण---ह्यूमन पैपिलोवाइरस (एचपीवी) वायरस के कारण उत्पन्न होते हैं जो बहुत संक्रामक और प्रत्यक्ष संपर्क द्वारा फैलता है। आप अपने वार्टस को छूने और उसके बाद अपने शरीर के दूसरे हिस्से को छूने भर से ही खुद को नये सिरे से संक्रमित कर सकते हैं। तौलिया या निजी उपयोग की दूसरी चीजों को मिल बांटकर इस्तेमाल करने से यह एक संक्रमित व्यक्ति से दूसरे में पहुंच सकता है। प्रत्येक व्यक्ति एचपीवी के खिलाफ अपने प्रतिरोधी तंत्र(इम्यून सिस्टम) की मज़बूती के अनुसार प्रतिक्रिया करता है। कुछ लोगों में वार्टस् की संभावना ज़्यादा होती है जबकि अन्य इस वायरस से प्रतिरक्षित रहते हैं। जेनिटल वार्टस बहुत संक्रामक होते हैं।
      जोखिम - किसी भी कारण से कमजोर इम्यून सिस्टम आपके लिये वाट्र्स का खतरा बढ़ा सकता है। व्यक्ति से प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष संपर्क जैसे कि पब्लिक टॉयलेट्स या डोर नॉब्स के ज़रिये संपर्क भी आपको जोखिम में डाल सकता है। त्वचा की सतह पर कटने-फटने से यह शरीर के एक हिस्से से दूसरे में फैल सकता है। जेनिटल वार्टस (या जननागों के मस्से) सैक्सुअल कांटेक्ट्स के ज़रिये फैलते हैं
    समस्त चिकित्सकीय सलाह रोग निदान ,एवं चिकित्सा की जानकारी ज्ञान(शिक्षण) उद्देश्य से हे| प्राधिकृत चिकित्सक से संपर्क के बाद ही प्रयोग में लें |.

    Book a Appointment.

    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

    स्वास्थ /रोग विषयक प्रश्न यहाँ दर्ज कर सकते हें|

    स्वास्थ है हमारा अधिकार

    हमारा लक्ष्य सामान्य जन से लेकर प्रत्येक विशिष्ट जन को समग्र स्वस्थ्य का लाभ पहुँचाना है| पंचकर्म सहित आयुर्वेद चिकित्सा, स्वास्थय हेतु लाभकारी लेख, इच्छित को स्वास्थ्य प्रशिक्षण, और स्वास्थ्य विषयक जन जागरण करना है| आयुर्वेदिक चिकित्सा – यह आयुर्वेद विज्ञानं के रूप में विश्व की पुरातन चिकित्सा पद्ध्ति है, जो ‘समग्र शरीर’ (अर्थात शरीर, मन और आत्मा) को स्वस्थ्य करती है|

    चिकित्सक सहयोगी बने:
    - हमारे यहाँ देश भर से रोगी चिकित्सा परामर्श हेतु आते हैं,या परामर्श करते हें, सभी का उज्जैन आना अक्सर धन, समय आदि कारणों से संभव नहीं हो पाता, एसी स्थिति में आप हमारे सहयोगी बन सकते हें| यदि आप पंजीकृत आयुर्वेद स्नातक (न्यूनतम) हें! आप पंचकर्म केंद्र अथवा पंचकर्म और आयुर्वेदिक चिकित्सा प्रक्रियाओं जैसे अर्श- क्षार सूत्र, रक्त मोक्षण, अग्निकर्म, वमन, विरेचन, बस्ती, या शिरोधारा जैसे विशिष्ट स्नेहनादी माध्यम से चिकित्सा कार्य करते हें, तो आप संपर्क कर सकते हें| 9425379102/ mail- healthforalldrvyas@gmail.com केवल परामर्श चिकित्सा कार्य करने वाले चिकित्सक सम्पर्क न करें|