Rescue from incurable disease

Rescue from incurable disease
लाइलाज बीमारी से मुक्ति उपाय है - आयुर्वेद और पंचकर्म चिकित्सा |
  • Home
  • Contact Us
  • About Me
  • Q & A
  • Article's स्वास्थ्य लेख
  • Panchakarma(पंचकर्म)
  • Common Article
  • Specific article (विशेष लेख)
  • VIDEO
  • आपके प्रश्नो पर हमारे उत्तर- बच्चे के मल द्वार पर घाव।

    Q- bache ko dast baar aaane par uske maldwaar par ghav ho gaya hai uska upchaar kyaa hai humne sarso ka tel garam karke lagaya par aaram nahi mila aap pls humari madad kare hum kya kare wo bahut thodi thodi shit din me 15 baar se jyada kar raha hai pls
    भवदीय,
    aaditya | sheshluck001@gmail.com
    2 सितम्बर 2013 12:49 pm को, ब्लॉगर संपर्क फ़ॉर्म <no-reply@blogger.com> पर लिखा:
     
       A-      मल द्वार (एनस) एक बहुत ही संबेदन शील स्थान होता है। इसे बार बार, खुरदुरे कपडे आदि से रगड़ने से वहाँ की त्वचा पहिले लाल सूजन युक्त हो जाती है फिर घाव हो जाता है। यदि बार बार दस्त लगते हों तो सॉफ्ट टिशू पेपर या रुई (कॉटन) पानी से गीली कर हल्के से साफ करना चाहिए। 
       यदि घाव हो गया हो तो जात्यादी तेल लगाए, घाव भर जाएगा।(आयुर्वेदिक ओषधि विक्रेताओं के यहाँ आसानी से मिलता है) बोरो प्लस आदि क्रीम भी  (कुछ कम) लाभ देंगी। बच्चे को जायफल घिस कर पिलाएँ दस्त बंद हो जाएंगे। बच्चे का दूध पिलाना जारी रखे ,साथ ही पानी में एक चुटकी नमक+ एक चम्मच शकर या ग्लूकोज मिलाकर बार बार पिलाते रहें ताकि डिहाइड्रेशन (पानी की कमी) न हो। अधिक दस्त होने पर तत्काल चिकित्सक से संपर्क भी करें। दस्त लगना खतरनाक हो सकता है।   
    जात्यादी तैल एक आयुर्वेदिक ओषधि है, जो आयुर्वेदिक ओषधि विक्रेताओं के यहाँ आसानी से मिल जाती हे। 
    -----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------  
    समस्त चिकित्सकीय सलाह रोग निदान एवं चिकित्सा की जानकारी ज्ञान(शिक्षण) उद्देश्य से हे| प्राधिकृत चिकित्सक से संपर्क के बाद ही प्रयोग में लें|

    Book a Appointment.

    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

    स्वास्थ /रोग विषयक प्रश्न यहाँ दर्ज कर सकते हें|

    स्वास्थ है हमारा अधिकार

    हमारा लक्ष्य सामान्य जन से लेकर प्रत्येक विशिष्ट जन को समग्र स्वस्थ्य का लाभ पहुँचाना है| पंचकर्म सहित आयुर्वेद चिकित्सा, स्वास्थय हेतु लाभकारी लेख, इच्छित को स्वास्थ्य प्रशिक्षण, और स्वास्थ्य विषयक जन जागरण करना है| आयुर्वेदिक चिकित्सा – यह आयुर्वेद विज्ञानं के रूप में विश्व की पुरातन चिकित्सा पद्ध्ति है, जो ‘समग्र शरीर’ (अर्थात शरीर, मन और आत्मा) को स्वस्थ्य करती है|

    चिकित्सक सहयोगी बने:
    - हमारे यहाँ देश भर से रोगी चिकित्सा परामर्श हेतु आते हैं,या परामर्श करते हें, सभी का उज्जैन आना अक्सर धन, समय आदि कारणों से संभव नहीं हो पाता, एसी स्थिति में आप हमारे सहयोगी बन सकते हें| यदि आप पंजीकृत आयुर्वेद स्नातक (न्यूनतम) हें! आप पंचकर्म केंद्र अथवा पंचकर्म और आयुर्वेदिक चिकित्सा प्रक्रियाओं जैसे अर्श- क्षार सूत्र, रक्त मोक्षण, अग्निकर्म, वमन, विरेचन, बस्ती, या शिरोधारा जैसे विशिष्ट स्नेहनादी माध्यम से चिकित्सा कार्य करते हें, तो आप संपर्क कर सकते हें| 9425379102/ mail- healthforalldrvyas@gmail.com केवल परामर्श चिकित्सा कार्य करने वाले चिकित्सक सम्पर्क न करें|