Rescue from incurable disease

Rescue from incurable disease
लाइलाज बीमारी से मुक्ति उपाय है - आयुर्वेद और पंचकर्म चिकित्सा |
  • Home
  • Contact Us
  • About Me
  • Q & A
  • Article's स्वास्थ्य लेख
  • Panchakarma(पंचकर्म)
  • Common Article
  • Specific article (विशेष लेख)
  • VIDEO
  • खाने पीने में बर्फ का प्रयोग है कितना घातक (विशेष संदेश)- डॉ मधु सूदन व्यास (हैल्थ फॉर आल डॉ व्यास)

    खाने पीने में बर्फ का प्रयोग  है कितना घातक (विशेष संदेश)-
    डॉ मधु सूदन व्यास (हैल्थ फॉर आल डॉ व्यास)
    काश हमारा शासन खराब बर्फ के खाद्य प्रयोग पर अधिक ध्यान देता, केवल जागरूकता अभियान के
    द्वारा केवल मात्र प्रचार न कर कुछ कठोर नियम बनाता,और अमल करवाता, जिससे इस प्रकार के बर्फ
    आदि बनाने वालों/ बेचने वाले व्यापारियों को उचित दंड मिलता तो, शासन और जनता की अरबों-खरबो
    रु की धन राशि जो स्वस्थ्य ठीक करने पर व्यय होती है वह बच जाती। और लाखों लोग इन बीमारियों की
    चपेट में आकार अपना स्वास्थ्य कमजोर कर देते हें जो की एक बड़ी राष्ट्रीय क्षती है, से बच पाते।
    और सब अपने स्वस्थ्य शरीर का उपयोग राष्ट्र निर्माण में करते। 
    गर्मी बढ़ती जा रही है,  दिन में जब घर से बाहर हों,प्यास खूब लगती है, मूत्र कम आता है, एसे में ठंडा खाने पीने का मन करता है। गन्ने के रस की दुकान फल का रस बेचने वालों को निगाहें तलाशती है। फिर नजर आते ही जैसे पूरी प्यास एक साथ मिटा लेने को जी चाहता है। पर यदि आपने गन्ने के रस या फल के रस के साथ यदि बर्फ डलवा कर प्यास वुझा ली तो बस समझ लें की वाइरल को निमंत्रण दे दिया। अब अगले एक दो सप्ताह आपके कष्ट से हो सकता है, अति कष्ट से गुजरने वाले हें।
    (नोट-इससे कुछ लोग ही अपनी रोग प्रतिकारक क्षमता या किसी अन्य कारण से कुछ समय तक ही बच पाते हें, हमेशा नहीं।)  
    क्यों होगा यह कष्ट और वाइरल का हमला!- 
    हमारे देश में बर्फ निर्माण/विक्रय के कोई कठोर नियम नहीं है। बर्फ जो खुले आम बिकता है वह केवल बाहरी प्रयोग या शव आदि को सुरक्षित रखने के लायक ही होता है, उसे खाने पीने की सामाग्री में नहीं मिलाया जाना चाहिए। इसके बारे में कहीं कहीं एक वैधानिक चेतावनी की "यह बर्फ खाने-पीने के लिए नहीं है" एक किसी स्थान पर लिख कर लटका दी जाती है, वह भी केवल फेक्टरी या बड़े विक्रेताओं के यहाँ। अधिक सस्ती होने से रिटेल व्यापारी वही खरीदता रसों में मिलाता ओर बेचता भी है । 
        वह जिस पानी से बनाया जाता है, वह फेक्टरी के पास के नदी तलाब कुए, या सार्वजनिक नल के अशुद्ध पानी से बना होता है, इसके बर्फ बन जाने से सभी वाइरस/किटाणु/कृमि आदि जम कर प्रिजर्व(सुरक्षित) हो जाते हें। शरीर में पहुँचकर जैसे ही उन किटाणुओं को सामान्य परिस्थिति मिलती है, सक्रिय होकर शरीर पर आक्रमण कर देते हें, और केवल यही नहीं सांस, छींक-खांसी आदि के माध्यम से आसपास के लोगों को भी संक्रमित करते हें। इससे उन किटाणुओं से संबन्धित रोग जैसे सर्दी/बुखार/जुकाम/खांसी/दस्त/ पेचिश/वाइरल इन्फेक्शन ही नहीं मारक पीलिया (जोंडिस), आदि आदि कई रोग उत्पन्न होने लगते हें। 
    ========================================================================
    समस्त चिकित्सकीय सलाह रोग निदान एवं चिकित्सा की जानकारी ज्ञान(शिक्षण) उद्देश्य से हे| प्राधिकृत चिकित्सक से संपर्क के बाद ही प्रयोग में लें| आपको कोई जानकारी पसंद आती है, ऑर आप उसे अपने मित्रो को शेयर करना/ बताना चाहते है, तो आप फेस-बुक/ ट्विटर/ई मेल/ जिनके आइकान नीचे बने हें को क्लिक कर शेयर कर दें। इसका प्रकाशन जन हित में किया जा रहा है।

    Book a Appointment.

    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

    स्वास्थ /रोग विषयक प्रश्न यहाँ दर्ज कर सकते हें|

    स्वास्थ है हमारा अधिकार

    हमारा लक्ष्य सामान्य जन से लेकर प्रत्येक विशिष्ट जन को समग्र स्वस्थ्य का लाभ पहुँचाना है| पंचकर्म सहित आयुर्वेद चिकित्सा, स्वास्थय हेतु लाभकारी लेख, इच्छित को स्वास्थ्य प्रशिक्षण, और स्वास्थ्य विषयक जन जागरण करना है| आयुर्वेदिक चिकित्सा – यह आयुर्वेद विज्ञानं के रूप में विश्व की पुरातन चिकित्सा पद्ध्ति है, जो ‘समग्र शरीर’ (अर्थात शरीर, मन और आत्मा) को स्वस्थ्य करती है|

    चिकित्सक सहयोगी बने:
    - हमारे यहाँ देश भर से रोगी चिकित्सा परामर्श हेतु आते हैं,या परामर्श करते हें, सभी का उज्जैन आना अक्सर धन, समय आदि कारणों से संभव नहीं हो पाता, एसी स्थिति में आप हमारे सहयोगी बन सकते हें| यदि आप पंजीकृत आयुर्वेद स्नातक (न्यूनतम) हें! आप पंचकर्म केंद्र अथवा पंचकर्म और आयुर्वेदिक चिकित्सा प्रक्रियाओं जैसे अर्श- क्षार सूत्र, रक्त मोक्षण, अग्निकर्म, वमन, विरेचन, बस्ती, या शिरोधारा जैसे विशिष्ट स्नेहनादी माध्यम से चिकित्सा कार्य करते हें, तो आप संपर्क कर सकते हें| 9425379102/ mail- healthforalldrvyas@gmail.com केवल परामर्श चिकित्सा कार्य करने वाले चिकित्सक सम्पर्क न करें|