Rescue from incurable disease

Rescue from incurable disease
लाइलाज बीमारी से मुक्ति उपाय है - आयुर्वेद और पंचकर्म चिकित्सा |
  • Home
  • Contact Us
  • About Me
  • Q & A
  • Article's स्वास्थ्य लेख
  • Panchakarma(पंचकर्म)
  • Common Article
  • Specific article (विशेष लेख)
  • VIDEO
  • मच्छर भगायें और प्रदुषण से भी बचें - (मच्छर भगाने का सबसे सस्ता, टिकाउ, आसान और देसी तरीका स्वयं बनायें।)

     मच्छर भगायें और प्रदुषण से भी बचें 


    1. Mosquito -repellent की किसी भी रिफिल को पूरा खाली कर लें, इसमें नीम के तेल 70% केरोसिन तेल या मिटटी के तेल 10% नारियल का तेल 15% में कपूर 5 % को पीस इसमें घोल लें, इस रिफिल को उसके प्लग मशीन में लगा कर इस्तमाल करें। इससे मच्छर भाग जाते है| कोई परफ्यूम मिला देने पर गंध भी ठीक रहेगी|
    2. नीम -केरोसीन लैम्प:- एक छोटी लैम्प में मिटटी के तेल में 30 बुँदे नीम के तेल की डालें, दो टिक्की कपूर को 20 ग्राम नारियल का तेल में पीस इसमें घोल लो इसे जलाने पर मच्छर भाग जाते है और जब तक वो लैम्प जलती रहती है, मच्छर नहीं आते |
    3.  दिया:- नारियल तेल में नीम के तेल को डाल कर उसका दिया जलाये इससे भी मच्छर नही आयेंगे|
    4. गाय के गोबर में नीम के सूखे पत्ते हवंन सामग्री मिलाकर कंडे, अगरबत्ती या धूपबत्ती जलाने से मच्छर नष्ट होतें हें|

    5. किसी भी mosquito -repellent रिफिल को पूरा खाली कर लें,
      उसमें नीम का तेल भर दें और उसमें कुछ शुद्ध कपूर के
      टुकड़े डाल दें फिर इस रिफिल को उसके प्लग मशीन
       में लगा कर इस्तमाल करें।

       यह देसी प्रयोग तमाम विदेशी प्रोडक्ट्स पर भारी ही पड़ेगा
    नोट :-जिस कमरे के मच्छर भागने है उस कमरे में कंडे लैम्प बत्ती अदि जला रहें हों वेंटिलेशन जरुरी है| 

    अच्छा है, की एक घंटे के लिए कमरे को बंद कर दें, फिर जाली वाली खिड़कियां खोल कर लें, और धुप अदि बंद कर सो जायें |



     लाभ :- यह सबसे सस्ता प्राकृतिक ,आर्गेनिक, दुष्प्रभाव रहित आदि !!
    खतरनाक दवाओ के दुषप्रिणाम से बचे
    मच्छर मारने के लिए coil के रूप में, टिकिया के रूप में या लिकुइड के रूप में जो दबा हम इस्तेमाल करते है उसमे कुछ खतरनाक केमिकल जैसे D ethylene , Melphoquin और phosphene रहते है | ये तीनो केमिकल यूरोप और अमेरिका के ५६ देशो में २० साल से बंध है | बच्चो के सामने ये दबा का इस्तेमाल नही करना चाहिए| वैज्ञानिको का कहना है ये मछर मारने वाली दबाये अंत में मनुष्य को मार देती है | और ये तीन खतरनाक केमिकल का ब्यापार भारत में विदेशी कंपनियों के नियंत्रण में है, वे अन्धादुन्ध केमिकल इम्पोर्ट करके भारत में बेच रहे है साथ में कुछ स्वदेशी कंपनिया भी इन्हें बेच रहे है |
    सबसे अच्छा है मच्छरदानी का इस्तेमाल करना  तो यह नीम के तेल का दीपक जलाये उससे एक भी मच्छर कमरे में नही आयेगा |
    और एक तरीका है गाय के गोबर में नीम के सूखे पत्ते हवंन सामग्री मिलाकर कंडे, अगरबत्ती या धूपबत्ती जलने से जिससे मच्छर नही आता |
      
    ====================================

    समस्त चिकित्सकीय सलाह रोग निदान एवं चिकित्सा की जानकारी ज्ञान(शिक्षण) उद्देश्य से हे| प्राधिकृत चिकित्सक से संपर्क के बाद ही प्रयोग में लें|

    Book a Appointment.

    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

    स्वास्थ /रोग विषयक प्रश्न यहाँ दर्ज कर सकते हें|

    स्वास्थ है हमारा अधिकार

    हमारा लक्ष्य सामान्य जन से लेकर प्रत्येक विशिष्ट जन को समग्र स्वस्थ्य का लाभ पहुँचाना है| पंचकर्म सहित आयुर्वेद चिकित्सा, स्वास्थय हेतु लाभकारी लेख, इच्छित को स्वास्थ्य प्रशिक्षण, और स्वास्थ्य विषयक जन जागरण करना है| आयुर्वेदिक चिकित्सा – यह आयुर्वेद विज्ञानं के रूप में विश्व की पुरातन चिकित्सा पद्ध्ति है, जो ‘समग्र शरीर’ (अर्थात शरीर, मन और आत्मा) को स्वस्थ्य करती है|

    चिकित्सक सहयोगी बने:
    - हमारे यहाँ देश भर से रोगी चिकित्सा परामर्श हेतु आते हैं,या परामर्श करते हें, सभी का उज्जैन आना अक्सर धन, समय आदि कारणों से संभव नहीं हो पाता, एसी स्थिति में आप हमारे सहयोगी बन सकते हें| यदि आप पंजीकृत आयुर्वेद स्नातक (न्यूनतम) हें! आप पंचकर्म केंद्र अथवा पंचकर्म और आयुर्वेदिक चिकित्सा प्रक्रियाओं जैसे अर्श- क्षार सूत्र, रक्त मोक्षण, अग्निकर्म, वमन, विरेचन, बस्ती, या शिरोधारा जैसे विशिष्ट स्नेहनादी माध्यम से चिकित्सा कार्य करते हें, तो आप संपर्क कर सकते हें| 9425379102/ mail- healthforalldrvyas@gmail.com केवल परामर्श चिकित्सा कार्य करने वाले चिकित्सक सम्पर्क न करें|