Rescue from incurable disease

Rescue from incurable disease
लाइलाज बीमारी से मुक्ति उपाय है - आयुर्वेद और पंचकर्म चिकित्सा |
  • Home
  • Contact Us
  • About Me
  • Q & A
  • Article's स्वास्थ्य लेख
  • Panchakarma(पंचकर्म)
  • Common Article
  • Specific article (विशेष लेख)
  • VIDEO
  • What & Why- do not eat, in the rainy season?

    क्या और क्यों - वर्षा ऋतू में नहीं खाना चाहिए? 
             हर मोसम में कई खाद्य हानि कारक होते हें पर अक्सर कुछ लोग कहते सुने जाते हें की "वे तो खाते हें उन्हें कुछ नहीं होता" 
            वारिश के मोसम में पत्तेवाली सब्जियां और विशेष रूप से जो सीधे जमींन पर लगतीं हें जैसे पालक, मेथी आदि, नहीं खाना चाहिए| -
           चूँकि बरसात का पानी खेतों में भर जाया करता है, इससे बहुत तरह के कीट उन्हें अपना आश्रय बना लेते हें, इसी मोसम में कीट पतंगों का प्रजनन काल या ब्रीडिंग सीजन होता है वे इनमें अपने अंडे, लार्वा आदि रखते हें| 
            कीट पंतंगों लार्वा अण्डों से भरी सब्जी खाना हानि कारक होगा ही, यदि किसान इन से बचने के लिए कीट नाशक दवा का छिडकाव करते हैं, जो बार बार और अधिक मात्रा में (पानी से धुल जाने के कारण) करना होती है, इससे ये रसायन मिटटी में गिर कर पोधों की जड़ों से सोखे जाकर सब्जियों में अन्दर तक समा जाया करते हैं, और आसानी से धोने , उबलने आदी से भी नहीं निकल पाते, और शरीर में पहुंचकर केंसर जेसे रोग तक बना सकते हें| 
    वर्षा ऋतू में वात की स्वभाविक प्रकोप और कफ वृद्धि होती है, वीर्य हीन (शक्ति हीन) सब्जियां जो समय बड रही होती है ताकि पूर्ण परिपक्वता के बाद अच्छे बीज को जन्म दे सकें, इस वात को बढ़ने में सहयक होती है|
    वात बड़ने से शरीर / जोड़, आदि में दर्द, पेट की खराबी और कफ दोष के कारण श्वास, कास (खांसी), वाइरल, सर्दी जुकाम, होता है जो आगे बढकर साइनसाइटीस, ब्रोंकाइटिस, टोसिलाइटिस, अस्थमा, आदि आदि जैसे रोग का कारण भी होती है| 
            वात और कफ दोष के लिए पत्ते वाली सब्जी के अतिरिक्त दही, पकोड़ा-पकोड़ी, दूध मलाई, और स्ट्रीट फ़ूड अत्यंत हानि कारक होता है| 
    जब कुछ लोग कहते सुने जाते हें की "वे तो खाते हें उन्हें कुछ नहीं होता" 
    होता यह भी यह भी सही है पर उन्हें "कुछ" क्यों नहीं होता? 
    अधिकतर ऐसे लोग युवा होते हैं उनकी रोग प्रतिरोधक शक्ति अच्छी होती है जो रोगों कीटाणु के विरुद्ध लड़कर उन्हें नष्ट करती रहती है| 
            परन्तु इसकी भी एक सीमा होती है, अधिक आयु होने पर या अधिक संक्रमण होने पर, जीवन चर्या (खान-पान, सोना- जागना, व्यायाम आदि) ठीक न होने, दंत मुहं नाक गला आदि की सफाई ठीक से न करने पर, शरीर पर कई रोग एक साथ होने पर, या कुछ जन्मजात कारणों से, देर-सबेर उन्हें भी इसका परिणाम भोगना ही पड़ सकता है|
    वर्षा ऋतू से सम्बन्धित और लेख / जानकारी देखें - LINK वर्षा ऋतू
    ---------------Link Click to See Latest 10 Articles.------------- 
    ------------------नवीनतम 10 लेख देखने के लिए क्लिक करें|---------------- 
    समस्त चिकित्सकीय सलाह, रोग निदान एवं चिकित्सा की जानकारी ज्ञान (शिक्षण) उद्देश्य से है| प्राधिकृत चिकित्सक से संपर्क के बाद ही प्रयोग में लें| इसका प्रकाशन जन हित में किया जा रहा है।

    Book a Appointment.

    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

    स्वास्थ /रोग विषयक प्रश्न यहाँ दर्ज कर सकते हें|

    स्वास्थ है हमारा अधिकार

    हमारा लक्ष्य सामान्य जन से लेकर प्रत्येक विशिष्ट जन को समग्र स्वस्थ्य का लाभ पहुँचाना है| पंचकर्म सहित आयुर्वेद चिकित्सा, स्वास्थय हेतु लाभकारी लेख, इच्छित को स्वास्थ्य प्रशिक्षण, और स्वास्थ्य विषयक जन जागरण करना है| आयुर्वेदिक चिकित्सा – यह आयुर्वेद विज्ञानं के रूप में विश्व की पुरातन चिकित्सा पद्ध्ति है, जो ‘समग्र शरीर’ (अर्थात शरीर, मन और आत्मा) को स्वस्थ्य करती है|

    चिकित्सक सहयोगी बने:
    - हमारे यहाँ देश भर से रोगी चिकित्सा परामर्श हेतु आते हैं,या परामर्श करते हें, सभी का उज्जैन आना अक्सर धन, समय आदि कारणों से संभव नहीं हो पाता, एसी स्थिति में आप हमारे सहयोगी बन सकते हें| यदि आप पंजीकृत आयुर्वेद स्नातक (न्यूनतम) हें! आप पंचकर्म केंद्र अथवा पंचकर्म और आयुर्वेदिक चिकित्सा प्रक्रियाओं जैसे अर्श- क्षार सूत्र, रक्त मोक्षण, अग्निकर्म, वमन, विरेचन, बस्ती, या शिरोधारा जैसे विशिष्ट स्नेहनादी माध्यम से चिकित्सा कार्य करते हें, तो आप संपर्क कर सकते हें| 9425379102/ mail- healthforalldrvyas@gmail.com केवल परामर्श चिकित्सा कार्य करने वाले चिकित्सक सम्पर्क न करें|