Rescue from incurable disease

Rescue from incurable disease
लाइलाज बीमारी से मुक्ति उपाय है - आयुर्वेद और पंचकर्म चिकित्सा |

Morning Message [प्रभात संदेश]

रोग रोज नया रूप धारण करते हें हमारे द्वारा किये “प्रज्ञापराध” से? वर्तमान में हम एक कृत्रिम, मिलावट युक्त, जीवन ज़ी, और भोजन कर रहें हें, जहाँ न चाहते हुए भी हम नैतिकता और जीवन की आचार नीति से समझोता कर, जानबूझकर कई गलतियाँ, जिन्हें आयुर्वेद अनुसार “प्रज्ञापराध” (जानते हुए अपराध करना) कहा जाता है, कर रहे हें| इससे कई मेटाबोलोक समस्याएं (जैसे मोटापा, डायबिटीज, उच्च कोलेष्ट्रोल, उच्च रक्त चाप) जो चिकित्सा विज्ञान के लिए चुनोती दे, इंसानियत का शिकार कर रहीं हें| इसका एक सही जवाब है, आहार और जीवन में सुधार| इससे बचने का एक मात्र रास्ता है, आहार और जीवन शैली में परिवर्तन! क्योंकि ये रोग इतने जिद्दी है, कि ये उपचार या दवाओं से भी नियंत्रित नहीं हो पा रहें हैं, और रूप बदलबदल कर नए रोगों के रूप में प्रघट होते रहते हें|

Freedom from obesity? [मोटापे से मुक्ति?]

मोटापे से मुक्ति?
मोटापा एक प्रेत की तरह पिछले कई वर्षों से झकझोर रहा है| मोटापे से डाइवितिज, ह्रदय रोग, ब्लड प्रेशर, आदि- आदि भयावह रोग तो हो ही रहें हैं इससे नपुंसकता बढ़ने से देश की विशेषकर आर्थिक संपन्न वर्ग में, सन्तति या जन्म दर भी प्रभावित हो रही है| क्योंकि निर्धन वर्ग में मोटापा न के बराबर पाया जाता है|

आप इन्हें भी पड़ना चाहेंगे!!