Rescue from incurable disease

Rescue from incurable disease
लाइलाज बीमारी से मुक्ति उपाय है - आयुर्वेद और पंचकर्म चिकित्सा |
  • Home
  • Contact Us
  • About Me
  • Q & A
  • Article's स्वास्थ्य लेख
  • Panchakarma(पंचकर्म)
  • Common Article
  • Specific article (विशेष लेख)
  • VIDEO
  • अंगूर खाकर वजन घटाए

    अंगूर खाकर वजन घटाए 
    जिसे संस्कृत में द्राक्षा अंग्रेजी में ग्रेप्स (Grapes) कहते हें,आजकल हमारे देश में खूब पैदा हो रहा हे । सीमांत अफगानिस्तान की और से आया यह फल हमारे यहाँ कुछ कम स्वादिष्ट होता हे। यह दो काले और तीन हरे रंगों में पाया जाता हे। काले रंग के एक "हब्शी अंगूर" जामुन जेसा वेंगनी एवं चमकदार और खाने में बहुत मीठा होता हे। हमारे देश में मिलने वाले काले अंगूर अधिक स्वादिष्ट नहीं होते। हरे अंगूरों में लम्बा सा बड़ा अंगूर सबसे अच्छा माना जाता हे। बीज न होने से यह बेदाना भी कहलाता हे।पक्के बड़ी जाती के अंगूरों को लता(बेल) पर ही सुका कर दाख या मुनक्का ,छोटी बेदाना अंगूर से किशमिश बनाई जाती हे। आजकल गंधक का धुआ देकर अप्राकृतिक रूप से भी मुनक्का या किशमिश बना ली जाती हे।
    आयुर्वेद मत से यह पुष्टि कारक,दस्तावर या रेचक ,कफ़ बड़ाने वाली,वीर्य वर्धक,भूख  प्यास को मिटने वाली,रक्त शोधक,पथरी,बबासीर मिटाने वाली होती हे।
        
    फल की आहार योजना के अंतर्गत अंगूर भी आपका अतिरिक्त किलो वजन तेजी से कम करने में मदद कर सकता हैं। तथापि, इस चुनौती की सफलता आपकी भोजन योजना में पर्याप्त किस्मों के फल शामिल करना, जिसे एक नियमित आधार पर  करने से लाभ होगा। धीमी शुरुआत के लिए, अपने आहार में कुछ अंगूर फल का समावेश करना स्वस्थ भोजन की दिशा में एक बड़ा कदम हो सकता है। एक बार स्वाद विकसित होने पर, एक अंगूर फल केंद्रित पूर्ण उन्मुख आहार योजना और अधिक संभावित प्रतीत होगी।

    अंगूर फल आहार योजना निम्न अनुसार हो सकती हे।
    नाश्ता
    सुबह का नाश्ते में या तो एक चीनी मुक्त 8 औंस अंगूर के रस का या नाश्ते का आधा हिस्सा अंगूर का समावेश हो सकता है। इसको ब्रेड के स्लाइस के साथ संयुक्त किया जा सकता है। 
    दोपहर का भोजन
     दोपहर के भोजन में एक कटोरा भर के सलाद साथ में सीमित मात्रा में दूध दलिया (प्रोटीन के लिए) का समावेश होना चाहिए है, जो भी आपको स्वाद में अधिक लगे। बेशक, एक आधी मात्रा में अंगूर या अंगूर के रस को शामिल किया जा सकता हे।
    रात का खाना: -- रात के खाने में, सलाद की जगह कुछ पकी सब्जीया ली जा सकती है। गेहूं+सोयाबीन+चने के आटे की रोटियां के साथ, सिर्फ अंगूर या अंगूर का रस की मात्रा नाश्ते और दोपहर के भोजन के समान रहेगी।
    देररात का भोजन 
     इसमें चरबी रहित 8 औंस दूध या उतनी ही मात्रा में अंगूर के रस का सेवन कर सकते है।
    एक विशिष्ठ अंगूर फल आहार योजना कम से कम 12 दिनों की अवधि के लिए निर्धारित करे। यदि आपको लगता है कि 12 दिनों के लंबे समय के लिए इस तरह की आहार योजना का पालन करने में समस्या हो सकती है, तो क्रमिक शुरुआत करके शायद आप मामलों को सरल कर सकते हैं।
    उदाहरण के लिए, आहार योजना एकदम शुरू करने के बजाय, आप अपने दैनिक नाश्ता में अंगूर लेने के द्वारा शुरुवात कर सकते हैं। इससे आप को फल के अच्छे गुणों का प्राप्त होना शुरु होगा और आप इसके अत्याधिक खपत से ऊबेंगे नही यह सुनिश्चित होगा। इसी प्रकार, धीरे - धीरे दिन के मुख्य भोजन में अंगूर शामिल किया जा सकता है।
    यदि आप सोच रहे हैं कि क्या एक अंगूर फल आहार योजना वास्तव में प्रयास के लायक है, तो यह वास्तव में है। 
    अंगूर फलों में फाइबर बहुत मात्रा में होता हैं जो कब्ज को दूर करता हैं। इसके अलावा, उनमें वास्तव में कैलोरी कम होती है, और इसलिए आहार भोजन के एक महान विकल्प हैं। उनमें विटामिन सी और ए के भी समृद्ध स्रोत है, और निश्चित रूप से जितना संभव हो अक्सर सेवन किया जाना चाहिए।
     अंडे मांस मच्छली  खाने वाले सिमित मात्र में दलिया रोटी के स्थान पर इनका प्रयोग कर सकते हें। 


    समस्त चिकित्सकीय सलाह रोग निदान एवं चिकित्सा की जानकारी ज्ञान(शिक्षण) उद्देश्य से हे| प्राधिकृत चिकित्सक से संपर्क के बाद ही प्रयोग में लें|
    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

    स्वास्थ /रोग विषयक प्रश्न यहाँ दर्ज कर सकते हें|

    स्वास्थ है हमारा अधिकार

    हमारा लक्ष्य सामान्य जन से लेकर प्रत्येक विशिष्ट जन को समग्र स्वस्थ्य का लाभ पहुँचाना है| पंचकर्म सहित आयुर्वेद चिकित्सा, स्वास्थय हेतु लाभकारी लेख, इच्छित को स्वास्थ्य प्रशिक्षण, और स्वास्थ्य विषयक जन जागरण करना है| आयुर्वेदिक चिकित्सा – यह आयुर्वेद विज्ञानं के रूप में विश्व की पुरातन चिकित्सा पद्ध्ति है, जो ‘समग्र शरीर’ (अर्थात शरीर, मन और आत्मा) को स्वस्थ्य करती है|

    चिकित्सक सहयोगी बने:
    - हमारे यहाँ देश भर से रोगी चिकित्सा परामर्श हेतु आते हैं,या परामर्श करते हें, सभी का उज्जैन आना अक्सर धन, समय आदि कारणों से संभव नहीं हो पाता, एसी स्थिति में आप हमारे सहयोगी बन सकते हें| यदि आप पंजीकृत आयुर्वेद स्नातक (न्यूनतम) हें! आप पंचकर्म केंद्र अथवा पंचकर्म और आयुर्वेदिक चिकित्सा प्रक्रियाओं जैसे अर्श- क्षार सूत्र, रक्त मोक्षण, अग्निकर्म, वमन, विरेचन, बस्ती, या शिरोधारा जैसे विशिष्ट स्नेहनादी माध्यम से चिकित्सा कार्य करते हें, तो आप संपर्क कर सकते हें| 9425379102/ mail- healthforalldrvyas@gmail.com केवल परामर्श चिकित्सा कार्य करने वाले चिकित्सक सम्पर्क न करें|