Rescue from incurable disease

Rescue from incurable disease
लाइलाज बीमारी से मुक्ति उपाय है - आयुर्वेद और पंचकर्म चिकित्सा |
  • Home
  • Contact Us
  • About Me
  • Q & A
  • Article's स्वास्थ्य लेख
  • Panchakarma(पंचकर्म)
  • Common Article
  • Specific article (विशेष लेख)
  • VIDEO
  • Researching Ayurvedic Drug product by Specialist- see on video

    Foundation of establishment of 'AYUSH CENTER.' AROGYA 2015

       देखें विडिओ लिंकAROGYA 2015   

    उज्जैन के इस आयुष सेंटर जो की विराट रूप लेकर भारत भर में अपनी शाखायें स्थापति करने जा रहा है की स्थापना की नीव कानपुर उप्र में दिनांक 04-05 अप्रैल 2015 को हुई आयुर्वेद चिकित्सको की एक डॉ. गौरांग जोशी राजकोट के नेतृत्व में डॉ. उमाशंकर निगम मुंबई, डॉ मधुसूदन व्यास उज्जैन, डॉ नवीन जोशी देहरादून, डॉ जी एस तोमर, डॉ ओ पी सिंग, डॉ एम् पी चतुर्वेदी, डॉ विनोद कुमार गंगवार भोपाल, डॉ जी के जैन भोपाल, डॉ राम अरोरा उज्जैन,  डॉ रमेश राजगुरु अहमदनगर महा., डॉ अबरार मुल्तानी भोपाल, डॉ देवाशीष दास ईलाहबाद, डॉ ब्रिजेश प्रताप सिंह वाराणसी, डॉ ओम प्रकाश सिंग B H U, डॉ शशिकांत राय इलाहाबाद, डॉ यू एस राजरिया जुनझुन राजस्थान, डॉ अजित कुमार यादव Mau UP, डॉ देवेश कुमार श्रीवास्तव लखनऊ, ने भाग लिया|

    कोंफ्रेंस, के आयोजन कर्ता चिकित्सा संसार ट्रस्ट उज्जैन के श्री डॉ अशोक खंडेलवाल, और सेमिनार के मेज़बान, उद्योग पति श्री सुशील कुमार अग्रवाल (भारतीय एग्रो फार्मा प्राइवेट लिमि. कानपुर उप्र)
    समस्त प्रतिनिधियों ने कई निर्णय किये|  इस अवसर पर समस्त कार्यक्रम का कवरेज टी वी चेनेल "K NEWS" ने किया, एक घंटे के सीधे प्रसारण में उपस्थित विशेषज्ञ चिकित्सको ने अपने शोध और अनुभव के अनुसार रोग दूर करने हेतु के कई ओषधि फार्मूलों की जानकारी दी है|
    संलग्न यह विडिओ टी वी चेनेल "K NEWS" पर सीधा प्रसारण से लिया गया है| 
    विडिओ में डॉ यू एस निगम ने पंचकर्म की आवश्यकता क्यों है के बारे में जानकारी दी , डॉ गौरांग जोशी ने केंसर और सोरायसिस पर आयुर्वेद में अपने शोध और लाभ के बारे में बताया, उद्योग पति सुशिल कुमार अग्रवाल ने कार्यकर्म की आवश्यकता की जानकारी दी, इसके बाद के अन्य चिकित्सको में डॉ तोमर ने डाईविटिज पर अफ्रीका में पाई जाने वाली बूटी 'Vernonia amygdalina' के शोध की जानकारी देकर बताया की वे इसके पोधे देश में लगवा रहे है, आपने डाईविटिज के लिए एक आयुर्वेदिक योग की जानकारी दी यह कोई भी घर पर बना भी सकता है| डॉ नवीन जोशी ने शासन की योजना की जानकारी दी|
    उज्जैन के डॉ मधुसूदन व्यास ने एलर्जी, शीतपित्त आदि शारीर के ददोरों और वाइरल के लिए हल्दी से ओषधि बनाने की विधि बताई| डॉ अबरार मुल्तानी भोपाल ने आयुर्वेदिक दवाओं में स्टीयरोइड के प्रयोग के दुष्प्रचार कर आयुर्वेद को बदनाम करने की बात कही, डॉ चतुर्वेदी , ने कोलेस्ट्रोल कम करने, एक्स आर्मी मेजर उमेश सिंग जो राजस्थान से थे ने फोजियों को आयुर्वेदिक ओषधि से खराब मोसम में सरवाईव् करने की बात कही जिसे वितरण की उन्हें अनुमति शासन ने दी है की जानकारी दी|
     इसी प्रकार अन्य चिकित्सको ने भी अपनी विभिन्न शोध और उनकी चिकित्सा की जानकारी प्रस्तुत की है|
    संलग्न विडिओ पर आप यह देख सुन और नोट कर प्रयोग कर सकते हें|

    देखें विडिओ लिंक- AROGYA 2015  सीधे प्रसारण की विडिओ रिकार्डिंग [On You-Tube ]


    =======================================
    समस्त चिकित्सकीय सलाह रोग निदान एवं चिकित्सा की जानकारी ज्ञान(शिक्षण) उद्देश्य से हे| प्राधिकृत चिकित्सक से संपर्क के बाद ही प्रयोग में लें| आपको कोई जानकारी पसंद आती है, ऑर आप उसे अपने मित्रो को शेयर करना/ बताना चाहते है, तो आप फेस-बुक/ ट्विटर/ई मेल/ जिनके आइकान नीचे बने हें को क्लिक कर शेयर कर दें। इसका प्रकाशन जन हित में किया जा रहा है।
    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

    स्वास्थ /रोग विषयक प्रश्न यहाँ दर्ज कर सकते हें|

    स्वास्थ है हमारा अधिकार

    हमारा लक्ष्य सामान्य जन से लेकर प्रत्येक विशिष्ट जन को समग्र स्वस्थ्य का लाभ पहुँचाना है| पंचकर्म सहित आयुर्वेद चिकित्सा, स्वास्थय हेतु लाभकारी लेख, इच्छित को स्वास्थ्य प्रशिक्षण, और स्वास्थ्य विषयक जन जागरण करना है| आयुर्वेदिक चिकित्सा – यह आयुर्वेद विज्ञानं के रूप में विश्व की पुरातन चिकित्सा पद्ध्ति है, जो ‘समग्र शरीर’ (अर्थात शरीर, मन और आत्मा) को स्वस्थ्य करती है|

    चिकित्सक सहयोगी बने:
    - हमारे यहाँ देश भर से रोगी चिकित्सा परामर्श हेतु आते हैं,या परामर्श करते हें, सभी का उज्जैन आना अक्सर धन, समय आदि कारणों से संभव नहीं हो पाता, एसी स्थिति में आप हमारे सहयोगी बन सकते हें| यदि आप पंजीकृत आयुर्वेद स्नातक (न्यूनतम) हें! आप पंचकर्म केंद्र अथवा पंचकर्म और आयुर्वेदिक चिकित्सा प्रक्रियाओं जैसे अर्श- क्षार सूत्र, रक्त मोक्षण, अग्निकर्म, वमन, विरेचन, बस्ती, या शिरोधारा जैसे विशिष्ट स्नेहनादी माध्यम से चिकित्सा कार्य करते हें, तो आप संपर्क कर सकते हें| 9425379102/ mail- healthforalldrvyas@gmail.com केवल परामर्श चिकित्सा कार्य करने वाले चिकित्सक सम्पर्क न करें|