Rescue from incurable disease

Rescue from incurable disease
लाइलाज बीमारी से मुक्ति उपाय है - आयुर्वेद और पंचकर्म चिकित्सा |

Thalapothichil (Shiro Lep) For Mental illness. मानसिक रोगों के लिए थालापोथिचिल (शिरो लेप).

शिरो लेप या Thalapothichil केरलीय थालापोथिचिल 
रक्त चाप, अनिद्रा, नींद कम आना, चिंता, अवसाद, मिर्गी, माइग्रेन, सहित बाल पकना, झड़ना, सिर पर रुसी, के लिए एक आसान और परीक्षित चिकित्सा! - आयुर्वेदिक चिकित्सकों के लिए विशेष लेख| 
शिरोलेप या मलयालम में थालापोथिचिल आयुर्वेद की एक विशेष चिकित्सा प्रक्रिया है, यह स्नेहन के अंतर्गत शामिल है, इसमें ओषधि युक्त लेप को सिर पर लगाया जाता है, फिर कमल पत्र को सिर पर बांधकर मध्य में एक छेद करते हें यहाँ से ओषधिय तेल डालते हें| मानसिक रोगों के लिए यह बहुत उपयोगी है|  मूलतः शिरोलेप से मष्तिष्क की तरावट और शांति मिलती है| 
प्रक्रिया Process:- 

रोगी व्यक्ति को एक आराम देह स्थिति में बैठाया जाता है, फिर विशिष्ट औषधीय तेल के साथ सिर की सोम्य  मालिश की जाती है|  रोगी की स्थिति का आकलन करने के बाद  ओषधियों का ताजा पेस्ट जो छाछ {Buttermilk} के साथ पका कर तैयार होता है, को सिर पर लगभग 0.5 से 1 सेंटीमीटर की मोटाई की एक परत में लगाया जाता है, इसमें सिर के मध्य भाग रिक्त छोड़ते हैं, इसमें ही ओषधिय तेल भरना होता है|
सिर पर केतन या कमल के पत्ते (plantain or lotus leaf) ढक दिया जाता है और माथे से एक नाडी द्वारा बांध दिया जाता है जिससे तेल या लेप स्थिर रहे| मध्य भाग में केंची से पत्ते में छेद करते हें, इस छेद से सुखोष्ण औषधीय तेल इस रिक्त स्थान में भरा जाता है,  प्रक्रिया के अंत में पेस्ट निकाल कर फिर सिर की सोम्य मालिश (gentle head massage) की जाती है|
उपचार की अवधि: 30 मिनट से 45 मिनट तक  रोगी की स्थिति के आधार पर।
लाभ Benefit :-
Ø     पित्त दोष की उग्रता और असंतुलन को ठीक करता है|  Corrects imbalance of pitta Dosha.
Ø     मष्तिष्क और मन की शांति और आराम मिलता है, शरीर पर सुखदायक प्रभाव पड़ता है|
Ø      Relaxes and calms down the mind; has a soothing effect on the body.
Ø     तंत्रिका तंत्र को स्थिर करता है| Stabilizes the nervous system.
Ø     मर्म (महत्वपूर्ण क्षेत्रों) अंक सक्रिय करता है|  Activates the Marma (vital areas) points.
Ø     तनाव, तनाव, सिर के भारीपन से राहत मिलती है| Relieves stress, tension, heaviness of the head.
Ø     अच्छी शांत नींद आती है|  Improves quality of sleep.
Ø     बाल की चमक बडती है, और शुष्कता कम होती है|
Ø      Improves lustre and smoothness of hair.
Ø     स्मरण शक्ति (स्मृति) में सुधार होता है| Improves memory.
Ø     सिर और गर्दन क्षेत्र को पोषण देकर आराम देता है और नवीनीकरण करता है।  Relaxes, rejuvenates and nourishes the head and neck region.
शिरोलेप या थालापोथिचिल प्रयोग:-
                  Å                        अनिद्रा और नींद विकार. Insomnia and sleep disorders.
                  Å                        उच्च रक्तचाप ,Hypertension.
                  Å                        सिरदर्द जैसे गंभीर सिरदर्द.Chronic headaches like migraines.
                  Å                        शरीर जलन और सनसनाहट, Burning sensation of the body.
                  Å                        शिर की त्वचा के रोग, जैसे रूसी, बाल झड़ना, त्वक्शोथ आदि,Certain skin diseases of scalp like dermatitis of scalp, dandruff, hair loss.
                  Å                        समय से पूर्व बालों का पकना सफ़ेद होना, Premature graying of hair.
                  Å                        कुछ प्रकार की पागलपन, Certain types of Insanity.
                  Å                        मिरगी ,Epilepsy.
                  Å                        पुरानी वायुविवर शोथ(साइनोसाइटिस), Chronic sinusitis.
                  Å                        चिंता, अवसाद, Anxiety, depression.

                  Å                        मानसिक मंदता के कुछ चरणों,Some stages of mental retardation.

---------------Link Click to See Latest 10 Articles.-------------
समस्त चिकित्सकीय सलाह, रोग निदान एवं चिकित्सा की जानकारी ज्ञान (शिक्षण) उद्देश्य से है| प्राधिकृत चिकित्सक से संपर्क के बाद ही प्रयोग में लें| इसका प्रकाशन जन हित में किया जा रहा है।
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

स्वास्थ /रोग विषयक प्रश्न यहाँ दर्ज कर सकते हें|

स्वास्थ है हमारा अधिकार

हमारा लक्ष्य सामान्य जन से लेकर प्रत्येक विशिष्ट जन को समग्र स्वस्थ्य का लाभ पहुँचाना है| पंचकर्म सहित आयुर्वेद चिकित्सा, स्वास्थय हेतु लाभकारी लेख, इच्छित को स्वास्थ्य प्रशिक्षण, और स्वास्थ्य विषयक जन जागरण करना है| आयुर्वेदिक चिकित्सा – यह आयुर्वेद विज्ञानं के रूप में विश्व की पुरातन चिकित्सा पद्ध्ति है, जो ‘समग्र शरीर’ (अर्थात शरीर, मन और आत्मा) को स्वस्थ्य करती है|

चिकित्सक सहयोगी बने:
- हमारे यहाँ देश भर से रोगी चिकित्सा परामर्श हेतु आते हैं,या परामर्श करते हें, सभी का उज्जैन आना अक्सर धन, समय आदि कारणों से संभव नहीं हो पाता, एसी स्थिति में आप हमारे सहयोगी बन सकते हें| यदि आप पंजीकृत आयुर्वेद स्नातक (न्यूनतम) हें! आप पंचकर्म केंद्र अथवा पंचकर्म और आयुर्वेदिक चिकित्सा प्रक्रियाओं जैसे अर्श- क्षार सूत्र, रक्त मोक्षण, अग्निकर्म, वमन, विरेचन, बस्ती, या शिरोधारा जैसे विशिष्ट स्नेहनादी माध्यम से चिकित्सा कार्य करते हें, तो आप संपर्क कर सकते हें| 9425379102/ mail- healthforalldrvyas@gmail.com केवल परामर्श चिकित्सा कार्य करने वाले चिकित्सक सम्पर्क न करें|